न्यूज़

  • Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • एनकाउंटर के बाद सप्लाई लाइन टूटी हिड़मा की बटालियन का चावल खत्म
--Advertisement--

एनकाउंटर के बाद सप्लाई लाइन टूटी हिड़मा की बटालियन का चावल खत्म

सुकमा | नक्सलियों की सबसे खतरनाक मानी जाने वाली बटालियन नंबर 1 के पास खाने के लिए चावल नहीं है। ऐसी स्थिति इसलिए बनी...

Danik Bhaskar

Jul 13, 2018, 03:35 AM IST
सुकमा | नक्सलियों की सबसे खतरनाक मानी जाने वाली बटालियन नंबर 1 के पास खाने के लिए चावल नहीं है। ऐसी स्थिति इसलिए बनी क्योंकि डीआरजी के और सुरक्षा बल के अन्य जवान लगातार सुकमा जिले में नक्सलियों पर दबाव बनाए हुए हैं। हाल ही में डीआरजी के जवानों ने कुछ एनकाउंटर किए हैं उसके बाद तो इलाके में भारी दबाव बना हुआ है और नक्सलियों की सप्लाई लाइन टूट गई है। यही कारण है कि बारिश से पहले नक्सली इस साल रसद जमा नहीं कर पाए हैं। गर्मी में जो रसद बटालियन के लिए भेजी गई थी, वह अब खत्म होने की कगार पर है। ऐसे में बटालियन में खाने-पीने की जिम्मेदारी देखने वाले डिप्टी कमांडर सीतू ने एरिया कमांडर रधु, राजे और दिनेश को चावल खत्म होने की जानकारी और ट्रैक्टर के जरिए धान भेजने की बात कही थी। यह पत्र नक्सलियों तक पहुंच पाता इससे पहले ही पत्र को पहुंचाने वाले नक्सलियों पर जवानों ने फायरिंग कर दी थी। ऐसे में नक्सली पत्र को छोड़कर भाग खड़े हुए इसके बाद पुलिस ने इसे बरामद किया है।

बताया जा रहा है कि कन्हाईपाड़ मुठभेड़ के बाद पुलिस ने मौके से कई सामान बरामद किए हैं। इन सामानों में पुलिस को गोंडी भाषा में लिखा एक पत्र भी मिला है। जब इस पत्र का हिंदी में अनुवाद करवाया गया तो पता चला कि इस पत्र को डिप्टी कमांडर सीतू ने अपने तीन एरिया कमांडरों को लिखा है। उसने पत्र में चावल खत्म होने की बात का जिक्र किया है। इसके अलावा जल्द से जल्द धान भेजने की बात भी कमांडरों से कही है।

नक्सलियों के डिप्टी कमांडर ने लिखा कमांडर को पत्र, कहा-मदद भेजें

एसपी बोले-चावल नहीं होगा तो ट्रेनिंग कैंपों और भर्ती अभियान पर पड़ेगा बड़ा असर

इधर सुकमा एसपी अभिषेक मीणा ने बताया कि बारिश के मौसम में नक्सलियों की बटालियन द्वारा अंदरुनी इलाके में नई भर्ती के साथ ट्रेनिंग कैंप चलाया जाता है। ऐसे में बटालियन के पास अगर खाने के लिए चावल और जरूरी राशन नहीं है तो इसका सीधा असर नक्सलियों के ट्रेनिंग कैंप पर पड़ेगा। गौरतलब है कि पुलिस ने बीते 7 माह में जिले के विभिन्न इलाकों में हुए अलग-अलग एनकाउंटर में 25 नक्सलियों के शव बरामद किए हैं। जबकि 50 से ज्यादा नक्सली मारे जाने का दावा पुलिस ने किया है।

Click to listen..