--Advertisement--

नालंदा परिसर लाइब्रेरी की मेंबरशिप 500 रु. महीना, वार्षिक 25 हजार और आजीवन 2 लाख

नालंदा परिसर में एक फैसेलिटी प्लाजा भी बनाया गया है। इसका काम पूरा हो गया है।

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 07:45 AM IST

रायपुर. सेंट्रल लाइब्रेरी परिसर में बने ऑक्सी रीडिंग जोन को अब नालंदा परिसर के नाम से जाना जाएगा। इसके संचालन के लिए कलेक्टर की अध्यक्षता में नालंदा परिसर प्रबंधन सोसायटी भी बना दी गई है। समिति की ओर से जारी सूचना के अनुसार सेंट्रल लाइब्रेरी का सदस्य बनने के लिए लोगों को हर महीने 500 रुपए देने होंगे। बीपीएल परिवार के सदस्यों के लिए यही शुल्क 200 रुपए प्रतिमाह होगा। किताबों की कॉशन मनी के तौर पर हर सदस्य को 2500 रुपए जमा कराने होंगे। कोई भी व्यक्ति कम से कम दो लाख रुपए देकर आजीवन सदस्य और 25 हजार या उससे ऊपर की रकम दान कर वार्षिक सदस्यता ले सकता है।


कलेक्टर की अध्यक्षता में बनी समिति में पुलिस अधीक्षक, आयुक्त नगर निगम, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सहित 15 सदस्यों को शामिल किया गया है। समिति की पहली बैठक में सोमवार को सेंट्रल लाइब्रेरी का सदस्य बनने की फीस भी तय कर दी गई है। फीस लेने की एकमात्र वजह यही है कि इन पैसों से किताबें लगातार ली जा सकें और मेंटेनेंस होता रहे। लाइब्रेरी के साथ ही सदस्य यहां पर 50 हजार पुस्तकों के साथ 112 कंप्यूटरयुक्त ई-लाइब्रेरी तथा फ्री वाई-फाई जोन का फायदा भी ले सकेंगे। सभी सदस्यों को प्रवेश के लिए आरएफ आईडी कार्ड दिया जाएगा। इस कार्ड की पहचान से ही वे किसी भी समय लाइब्रेरी में दाखिल हो सकेंगे।

परिसर सातों दिन, 24 घंटे खुला

समिति के अध्यक्ष और कलेक्टर ओपी चौधरी ने बताया कि नालंदा परिसर सातों दिन और 24 घंटे संचालित होगा। इसके लिए एसपी की अध्यक्षता में सोसायटी के अंतर्गत 10 सदस्यीय सुरक्षा समिति भी बना दी गई है। 64 सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। कैमरों की मॉनिटरिंग कंट्रोल रुम से की जाएगी। परिसर के अंदर ही जी प्लस टू रीडिंग टाॅवर बनाया गया है। जिसे यूथ टाॅवर नाम दिया गया है। इसमें एक हजार युवा एक समय में बैठ कर पढ़ाई कर सकेंगे। इस टॉवर की छत पर भी बैठकर छात्र पढ़ाई कर सकेंगे।

नालंदा परिसर में एक फैसेलिटी प्लाजा भी बनाया गया है। इसका काम पूरा हो गया है। यहां युवाओं के लिए स्टेशनरी, बुक स्टाॅल, मेडिकल स्टोर, एटीएम के साथ एक रेस्टारेंट भी रहेगा जो 24 घंटे खुला रहेगा। समिति की बैठक के बाद सभी सदस्यों और आईजी प्रदीप गुप्ता ने ऑक्सी रीडिंग जोन का निरीक्षण भी किया। माना जा रहा है कि इसका शुभारंभ 15 मई तक कर दिया जाएगा।