--Advertisement--

राहुल गांधी ने लगाए ठुमके, मांदर की थाप पर आजमाई अंगुलियां

Dainik Bhaskar

May 17, 2018, 06:31 PM IST

सीतापुर पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का सरगुजा के पारंपरिक नृत्य शैला मांदर से अादिवासी कलाकारों ने किया स्वागत

सरगुजा के सीतापुर में आदिवासी सरगुजा के सीतापुर में आदिवासी

सरगुजा। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी अपने छत्तीसगढ़ दौरे में अलग-अलग रूप में दिखाई दिए। एक ओर जहां उन्होंने राजधानी रायपुर में सरकार पर निशाना साधा और उस पर डर की राजनीति करने का आरोप लगाया। वहीं सरगुजा पहुंचने पर वो आदिवासी रंग में रंग गए।

- सरगुजा के सीतापुर पहुंचे राहुल गांधी का स्वागत वहां के आदिवासी कलाकारों ने पारंपरिक नृत्य के साथ किया। सरगुजा करमा की पारंपरिक प्रस्तुति नृत्य शैला मांदर के साथ राहुल गांधी का स्वागत हुआ। इस दौरान राहुल गांधी भी स्वयं को नहीं रोक पाए।

- उन्होंने नृत्य के दौरान मांदर की थाप पर आदिवासियों के साथ डांस किया। राहुल के वहां पहुंचते ही एक कलाकार ने मांदर उनके गले में डाल दिया। इसके बाद वो अपने को रोक नहीं पाए और गले में लटकाकर उसकी थाप पर अपनी अंगुलियों से आजमाइश की। उनके साथ कांग्रेस नेता अमरजीत भगत भी मांदर बजा रहे थे।

- कुछ देर मांदर बजाने के बाद उन्होंने भूपेश बघेल को मांदर थमा दिया। बघेल खुद अपने गले में लटका कर मांदर को बजाने लगे। राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया, टीएस सिंहदेव भी थे।

मांदर प्राचीन और लाेकप्रिय आदिवासी वाद्य

- मांदर प्राचीन और अत्यंत लोकप्रिय आदिवासी वाद्य है। इसे यहां आदिवासी समुदाय के लोग बजाते हैं। यह पार्श्वमुखी वाद्य है। लाल मिट्टी के बने मांदर का गोलाकार ढांचा अंदर से खोखला होता है। इसके दोनों तरफ के खुले मुंह बकरे की खाल से ढंके रहते हैं। ढांचा के उपर गोलाकार बध्दी (चमड़े की रस्सी) कसी रहती है। मुंह की खालों को कसने के लिए चमड़े की वेणी का इस्तेमाल किया जाता है। मांदर का दाहिना मुंह छोटा और बायां मुंह चौड़ा होता है। छोटे मुंह वाली खाल पर खास तरह का लेप लगाया जाता है। उसे 'किरण' कहते हैं। उसकी वजह से मांदर की आवाज गूंजदार होती है। नाच के वक्त उसे बजाने वाला भी घूमता-थिरकता है। इसके लिए वह रस्सी के सहारे मांदर को कंधे से लटका लेता है।

राहुल गांधी कार्यक्रम

- इससे पहले राहुल गांधी सुबह करीब 10 बजे रायपुर पहुंचे और इंडोर स्टेडियम में राजीव गांधी पंचायती राज के क्षेत्रीय सम्मेलन में शामिल हुए। यहां से 12.30 बजे सरगुजा जिले के सीतापुर में किसान आदिवासी सम्मेलन में पहुंचे। वहां से दोपहर 2:00 बजे पेण्ड्रा के कोटमी में वन सत्याग्रह सम्मेलन में भाग लिया।

18 मई के कार्यक्रम

- 18 मई को वे सुबह 11 बजे बिलासपुर में बिलासपुर संभाग के कांग्रेस के बूथ लेवल के प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में शामिल होने के बाद दोपहर 1:00 बजे दुर्ग में दुर्ग संभाग के बूथ लेवल के प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में शामिल होंगे।

- 18 मई को वे 3:00 बजे दुर्ग से माना विमानतल रायपुर में रोड शो में शामिल होंगे। ये रोड शो करीब 50 किलोमीटर का होगा।

- कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया, छत्तीसगढ़ प्रभारी सचिवद्वय डाॅ. चंदन यादव और अरूण उरांव के साथ-साथ वरिष्ठ कांग्रेस नेता पूर्व केन्द्रीय मंत्री जयराम रमेश, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के संचार विभाग के अध्यक्ष रणदीप सिंह सुरजेवाला, राजीव गांधी पंचायती राज संगठन की राष्ट्रीय अध्यक्ष, पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन, महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्मिता देव एवं राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के हर्षवर्धन सकपाल शामिल होंगे।

X
सरगुजा के सीतापुर में आदिवासी सरगुजा के सीतापुर में आदिवासी
Astrology

Recommended

Click to listen..