पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Raipur लंबे समय तक एक ही पॉश्चर में मोबाइल यूज करने से बढ़ रहे माइलोपैथी के केस, है खतरनाक

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लंबे समय तक एक ही पॉश्चर में मोबाइल यूज करने से बढ़ रहे माइलोपैथी के केस, है खतरनाक

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लंबे समय तक एक ही पॉश्चर में मोबाइल यूज करने से स्पाइनल कॉर्ड पर इफेक्ट पड़ता है। इसे माइलोपैथी कहा जाता है। इसमें स्पाइनल कॉर्ड क्षतिग्रस्त होकर उसमें सूजन आ जाती है। स्मार्टफोन के ज्यादा इस्तेमाल के कारण यह समस्या लगातार बढ़ रही है। स्पाइनल कॉर्ड से जुड़े राेजाना दर्जनों केस सामने आ रहे हैं। ये बेहद खतरनाक बीमारी है। लंबे समय तक इलाज न मिलने से इंसान के हाथ-पैर काम करना बंद कर देते हैं। शहर में न्यूरोलॉजी टॉपिक पर आयोजित नेशनल समिट में देशभर से पहुंचे न्यूरो एक्सपर्ट्स से बात में ये जानकारी सामने आई।

मोबाइल एडिक्शन और इसके नुकसान पर न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. सीएम सिंह ने बताया कि देर तक सिर झुकाकर या मोबाइल को कंधे से लंबे समय तक तिरछा करके रखने से स्पाइनल कॉर्ड पर बुरा असर पड़ता है। ये गलत हैबिट कई गंभीर बीमारियों का कारण बन रही है। स्पाइन कॉर्ड बॉडी का इम्पॉर्टेंट पार्ट है, जो माइंड के जरिए सिग्नल्स शरीर के दूसरे हिस्सों तक पहुंचाता है। ये प्रॉब्लम स्लिप डिस्क, घिस रही सर्वाइकल डिक्स, स्पाइनल कॉर्ड पर प्रेशर, गर्दन का फ्रेक्चर, सर्वाइकल स्पाइन में गंभीर चोट के कारण हो सकती है। जानिए न्यूरो से जुड़ी कुछ और बीमारियों के कारण और उनसे बचाव के तरीके।

Health Update

माइग्रेन : माइग्रेन ब्रेन में होने वाले केमिकल चेंजेस के कारण होता है। इसका प्रमुख लक्षण है तेज सिर दर्द हाेना। तेज चमक दिखाई देना, कुछ समय के लिए चीजें धुंधली दिखाई देना। ये टेंशन, नशा करने, नियमित दिनचर्या न होने, पर्याप्त नींद न लेने से होता है।

क्या करें-क्या न करें

कम से कम 7 घंटे की नींद लें।

स्मोकिंग, अल्कोहल, तंबाकू जैसे नशे से दूर रहें।

लाइफस्टाइल सुधारें, डेली योगा, ध्यान करें।

टेंशन न लें, स्ट्रेस फ्री रहें।

स्ट्रोक : स्ट्रोक ब्रेन में ब्लड सर्कुलेशन के ब्लॉक होने या ब्रेन की नस फटने से होता है। इससे मस्तिष्क में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। इससे विकलांगता या पेशेंट की मृत्यु भी हो सकती है। इसमें बोलने और समझने में परेशानी, लकवा, एक या दोनों आंखों से देखने में समस्या, चलने में परेशानी, अचानक चक्कर आना जैसे लक्षण होते हैं।

क्या करें-क्या न करें

अल्कोहल, स्मोकिंग जैसे नशा न करें।

वजन पर कंट्रोल रखें।

सब्जियों और फलों का सेवन करें।

कम वसा वाले डेयरी प्रोडक्ट का यूज करें।

ज्यादा शक्कर वाले पेय या खाद्य पदार्थ का सेवन न करें।

माइलोपैथी से बचने इनका रखें ध्यान
ज्यादा झुककर काम न करें।

पीठ और गर्दन सीधी रखें।

मोबाइल का यूज एक ही पॉश्चर पर लंबे समय तक न करें।

सड़क पर गड्ढे या ब्रेकर हो तो गाड़ी धीमी कर लें।

गर्दन के मूवमेंट को सीमित और सोते या बैठे सावधानी से उठें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें