Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Trauma Centre Is Not Available In AIIMS Raipur

रायपुर एम्स में 6 साल बाद भी ट्रामा सेंटर शुरू नहीं, ऑपरेशन थिएटर की कमी बनी बाधा

डायरेक्टर के साथ हुई बैठक में एचओडी ने बताई समस्याएं

dainikbhaskar.com | Last Modified - Aug 11, 2018, 04:18 PM IST

रायपुर एम्स में 6 साल बाद भी ट्रामा सेंटर शुरू नहीं, ऑपरेशन थिएटर की कमी बनी बाधा

रायपुर। एम्स में मेडिकल कॉलेज शुरू हुए छह साल हो गया है, लेकिन ट्रामा सेंटर शुरू नहीं हो पाया है। ट्रामा सेंटर शुरू करने में सबसे बड़ी बाधा ऑपरेशन थिएटर की कमी है। वर्तमान में एम्स में केवल चार मेजर ओटी है। इसमें एक ओटी नेत्र रोग के लिए आरक्षित है। बाकी तीन ओटी में सर्जिकल विभागों के सर्जन ऑपरेशन करते हैं।

- एम्स के डायरेक्टर नितिन एम. नागरकर ने शनिवार को सभी एचओडी की बैठक लेकर मरीजों के इलाज संबंधी जरूरी निर्देश दिए। इसमें केजुअल्टी यानी ट्रामा सेंटर पर भी बात हुई। राजधानी में इमरजेंसी में इलाज कराने के लिए मरीजों को अंबेडकर व निजी अस्पताल जाना पड़ता है। एम्स में ट्रामा बिल्डिंग तो है, लेकिन इसमें इमरजेंसी में आने वाले मरीजों को भर्ती करने की सुविधा नहीं है।

- रायपुर एम्स के साथ खुले नए एम्स में इमरजेंसी सेवा शुरू हो गई है। जोधपुर में एक साल से ट्रामा सेंटर शुरू हो चुका है। यहां आठ ओटी भी है। ऋषिकेष, पटना, भोपाल, भुवनेश्वर भी सुविधाओं में काफी आगे है। एम्स में ट्रामा सेंटर नहीं होने का सबसे बड़ा नुकसान मरीजों को हो रहा है।

- टाटीबंध क्षेत्र में रोजाना एक से दो सड़क दुर्घटना होती है। मरीजों को एम्स पास होते हुए भी अंबेडकर अस्पताल लाना पड़ता है। कई बार इससे गंभीर मरीजों की मौत हो जाती है। एम्स में ट्रामा सेंटर रहता तो मरीजों को वहां भर्ती कर इलाज किया जा सकता। इससे कई मरीजों की जान बचाने में मदद मिलती।

- गौर करने वाली बात यह है कि एम्स जब चालू हुआ तो सबसे पहले ट्रामा यूनिट के डॉक्टरों की भर्ती की गई। इसमें चार डॉक्टरों ने ज्वाइन किया था, लेकिन विवाद के बाद ट्रामा प्रभारी डॉ. तेजप्रकाश नौकरी छोड़कर चले गए। इसके बाद ट्रामा यूनिट बस नाम का है। हालांकि डॉ. तेजप्रकाश के समय भी इमरजेंसी में कोई मरीज भर्ती नहीं किया।

- 20 जुलाई को कंस्ट्रक्शन कंपनी के स्टोर कीपर जगदीश काले ने अस्पताल की छत से कूदकर कर आत्महत्या कर लिया था। परिजनों ने इमरजेंसी में इलाज नहीं मिलने के कारण मौत होने का आरोप भी लगाया था। काले जब कूदा तो जीवित था, लेकिन समय पर डॉक्टर के नहीं पहुंचने से उसकी मौत हो गई।

दो नए ओटी शुरू होने की संभावना

-ट्रामा सेंटर चालू करने के लिए ओटी की संख्या बढ़ा रहे हैं। कुछ दिनों में दो नए ओटी शुरू होने की संभावना है। इसके बाद मरीजों को 24 घंटे भर्ती करने की सुविधा शुरू हो जाएगी।
डॉ. अजय दानी, मेडिकल अधीक्षक एम्स

कंटेंट : पीलू राम साहू

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×