--Advertisement--

जब चिता की लपटों के बीच प्रसूता के पेट में हुआ ब्लास्ट, जमीन पर आ गिरा नवजात

डॉक्टर की लापरवाही की वजह से गई एक प्रसूता की जान।

Dainik Bhaskar

Apr 14, 2018, 04:40 PM IST
फाइल फोटो। फाइल फोटो।

रायगढ़। प्रेगनेंट को चिता पर रखा। आग की लपटों ने विकराल रूप लिया। उसी दौरान महिला के पेट में जबरदस्त धमाका हुआ। चिता के बगल में एक नवजात गिर पड़ा। ये देख वहां मौजूद लोग शॉक्ड रह गए। पति दहाड़े मारकर रोने लगा। उसने कहा- जिसे गोद में खिलाने की उम्मीद पाल रखा था, उसे सीने से भी न लगा सका। DainikBhaskar.com 'SHOCKING सीरीज' में बता रहा है छत्तीसगढ़ के रायगढ़ का एक दिल दहला देने वाला मामला।

- मामला 28 दिसंबर का है। डॉक्टर्स की लापरवाही की वजह से एक प्रसूता की जान चली गई।
- डॉक्टर ने 22 वर्षीय गर्भवती महिला की डिलिवरी के लिए 17 जनवरी की तारीख दी थी। हाथ-पैर में सूजन देखकर परिजनों ने उसे 24 दिसंबर को हॉस्पिटल में एडमिट कराया। डॉक्टर ने बताया- महिला के शरीर में सिर्फ 5 ग्राम हीमोग्लोबिन है।
- 3 यूनिट ब्लड की जरूरत थी। परिजनों को लैब प्रभारी ने 25 दिसंबर को महिला का ब्लड ग्रुप ए पॉजिटिव बताया।
- ब्लड की व्यवस्था कर 24 घंटे बाद (26 दिसंबर) को पहुंचे तो लैब के कर्मचारी ने कहा- ए निगेटिव ग्रुप का ब्लड लाओ।
- परिजन एक बार फिर दलाल के माध्यम से 16 सौ रुपए में ए निगेटिव ब्लड खरीदकर 27 दिसंबर को दिया।
- डॉक्टरों ने अब तो हद कर दी, उन्होंने 2 यूनिट ब्लड की डिमांड और कर दी। 28 दिसंबर की रात परिवार ने दलाल को 4,500 रुपए देकर ब्लड का अरेंज किया।
- 29 दिसंबर को सुबह जब वो ब्लड लेकर गए, तब तक महिला की मौत हो चुकी थी।

अपने कलेजे के टुकड़े को सीने से भी न लगा सका

- महिला के पति राजकुमार ने कहा- सोचा था पत्नी यहां ठीक हो जाएगी और बच्चे के साथ घर लौटूंगा। लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। पत्नी का शव लेकर लौटना पड़ा।
- डॉक्टरों ने उसके पेट में पल रहे बच्चे के बारे में भी हमें कुछ नहीं बताया।
- पत्नी का अंतिम संस्कार किया तो चिता पर ही उसके पेट से बच्चा बाहर आ गया। हम रोने के सिवाय कुछ नहीं कर पाए। अपने कलेजे के टुकड़े को सीने से भी नहीं लगा सका।
- डॉक्टर और स्टाफ ने मिलक दोनों की जान ले ली। अगर समय पर सही ब्लड ग्रुप की जानकारी दी होती तो पत्नी-बच्चा दोनों सुरक्षित होते।
- कमला के साथ मेरी शादी 2015 में हुई थी। यह हमारा पहला बच्चा होता इसलिए घर में खुशी का माहौल था।
- मेरा संसार तो उजड़ गया पर अस्पताल में इलाज के नाम पर लापरवाही करने वालों पर कार्रवाई होनी चाहिए, ताकि किसी और के घर की खुशियां न छीने।

महिला के पेट में ब्लास्ट के बाद बच्चा यूं नाड़े के सहारे लटका था। महिला के पेट में ब्लास्ट के बाद बच्चा यूं नाड़े के सहारे लटका था।
X
फाइल फोटो।फाइल फोटो।
महिला के पेट में ब्लास्ट के बाद बच्चा यूं नाड़े के सहारे लटका था।महिला के पेट में ब्लास्ट के बाद बच्चा यूं नाड़े के सहारे लटका था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..