--Advertisement--

25% शहरी नियमित नहीं कर रहे भुगतान 8500 को नोटिस, 650 कनेक्शन भी काटे

Rajnandgaon News - बिजली कंपनी की सख्ती ने इन दिनों बकायादारों की नींद उड़ा दी है। भास्कर पड़ताल में पता चला कि 25% शहरी है जो नियमित रूप...

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 03:06 AM IST
Rajnandgaon News - 25 noticeable to non regular payouts 8500 650 connections too
बिजली कंपनी की सख्ती ने इन दिनों बकायादारों की नींद उड़ा दी है। भास्कर पड़ताल में पता चला कि 25% शहरी है जो नियमित रूप से बिल भुगतान नहीं करते हैं। राजनांदगांव संभाग के करीब साढ़े 8 हजार उपभोक्ताओं को नोटिस दिया गया है। इसमें निम्न, मध्यम वर्गीय उपभोक्ताओं से लेकर रसूखदार परिवार भी शामिल हैं। तीन दिन में 650 कनेक्शन काट गए हैं। कनेक्शन न कट जाए इस डर से उपभोक्ता दौड़े भागे कंपनी दफ्तर पहुंच रहे हैं। इन सबके बीच बिलिंग में गड़बड़ी का खुलासा हुआ है। यही वजह रही कि एकलबत्ती कनेक्शन वाले उपभोक्ता को भी कंपनी की सख्ती से परेशान होना पड़ा।

आगामी तीन दिन में एक हजार कनेक्शन काटने का लक्ष्य रखा गया है। जिन उपभोक्ताओं के कनेक्शन काटे गए उनमें से 450 उपभोक्ताओं ने राशि जमा कर कनेक्शन जुड़वाने की पहल की। कनेक्शन काटने और जोड़ने के लिए अलग-अलग टीम तैनात किए गए हैं। अधिकारियों की माने तो कंपनी की इस सख्ती से नियमित बिल भुगतान नहीं करने वाले उपभोक्ताओं में दहशत का माहौल है। वे रसूखदारों, निम्न और मध्यम तबके के उपभोक्ताओं पर सामान कार्रवाई कर रहे है। लेकिन जो सूची तैयार की गई है, उनमें 10 हजार रुपए से नीचे वाले बकायादारों के खिलाफ पहले कार्रवाई करेंगे।

यह खास : 10 हजार से कम बकाया वालों की सूची बनी

राजनांदगांव. भरकापारा में जब कंपनी के कर्मचारी पहुंचे तो कुछ उपभोक्ताओं ने तत्काल बकाया बिल जमा किया।

किस्त में बिजली बिल भुगतान की उपभोक्ताओं को दे रहे सहूलियत

कंपनी की ओर से उपभोक्ताओं को इतनी रियायत दी जा रही है कि वे किस्त में बकाया राशि का भुगतान कर सके। समझौते के बाद पहली किस्त जमा कर उपभोक्ता कनेक्शन जुड़वा सकता है। डिवीजन कार्यालय में रात 9 बजे तक इंजीनियर को तैनात रखा जा रहा है। बकाया राशि भुगतान के दो घंटे के भीतर ही अधिकारी कनेक्शन जोड़ने का दावा कर रहे हैं। 130 रुपए अतिरिक्त शुल्क वसूला जा रहा है।

भास्कर लाइव: साहब... कनेक्शन काटना है तो काट दो

शुक्रवार को बम्हनी निवासी सावल दास सतनामी राजनांदगांव संभाग ईई वीआरके मूर्ति से मिलने पहुंचा। उसे नोटिस गया था। जिसमें लिखा गया था कि बिल बकाया 4961 रुपए है। उन्होंने 23 मार्च 2015 से भुगतान नहीं किया है। सावल ने अफसर से कहा कि वह घर में अकेला रहता है। पंखा, टीवी कुछ नहीं है, बल्ब बस जलता है। वह इतना बिल नहीं जमा कर पाएगा। इसलिए कनेक्शन काट दो। अफसर ने उसे किस्त में राशि जमा करने का ऑफर दिया, फिर भी वह नहीं माना। सैप सर्वर से जानकारी लेने पर पता चला कि सावल को एकल बत्ती कनेक्शन दिया गया है। हर महीने उसे एवरेज 75 यूनिट का बिल भेजा जा रहा है। जो बिलिंग में गड़बड़ी दर्शाता है।

ये हैं रसूखदार, आदिवासी सहायक आयुक्त पर दो लाख रुपए का बकाया

संभाग में 20 रसूखदार हैं जिनका हजारों बकाया है। कंपनी की रेड सूची सभी का नाम शामिल किया गया है। निर्मल चंद जैन ग्राम घोरदा के नाम से 196237 रुपए बकाया है। मनीष खंडेलवाल ग्राम बनहरदी पर 121054 रुपए, गीता देवी ग्राम बरनहरदी पर 106458 रुपए, विमल साहू ग्राम अर्जुनी पर 98946 रुपए, फनेंद्र जैन ग्राम अर्जुनी पर 97764 रुपए, आदिवासी विभाग के सहायक आयुक्त पर 218264 रुपए बकाया है।

अफसर खुद स्वीकार रहे 20% बिलिंग में गड़बड़ी

जिन उपभोक्ताओं को नोटिस दिया गया है, उनमें से ज्यादातर बिलिंग में गड़बड़ी का शिकार हैं। इसलिए उनकी बकाया राशि हजारों रुपए में पहुंच गई है। हर महीने किए जाने वाले बिलिंग में 20 फीसदी ऐसे रिकाॅर्ड होते हैं जिनमें गड़बड़ी रहती है। अफसर भी कबूल कर रहे हैं। उनका कहना है कि इस गड़बड़ी को सुधारने प्रयासरत हैं। इसके पीछे उपभोक्ता का घर पर न रहना, मीटर रीडर का न जाना प्रमुख कारण है।

बिजली कंपनी ने ऐसी-ऐसी लापरवाही ग्राहकों से की

55 यूनिट को पांच सौ दर्शाया: सिंगदई निवासी जयपाल सिंह देवांगन के यहां 55 यूनिट खपत होने के बाद भी 500 यूनिट का बिल दिया गया। जयपाल ने मामले की शिकायत अफसरों से की है। साथ ही यह रीडिंग करने वाले मीटर रीडर का भी नाम बताने कहा है।

केस-1

कनेक्शन काट दिया: ग्राम बम्हनीटोला सुकुलदैहान निवासी बुधारू मंडावी का 10 हजार रुपए बिल बकाया था, नोटिस के बाद भी भुगतान नहीं करने पर कंपनी ने कनेक्शन काट दिया। उपभोक्ता ने किस्त में राशि जमा की, तब शुक्रवार को कनेक्शन जोड़ने के निर्देश दिए गए।

केस-2

  वीआरके मूर्ति, ईई, सीएसपीडीसीएल

हमारे टारगेट में सभी शामिल हैं


-हमारे लिए सभी बराबर हैं, दस हजार से लेकर एक लाख रुपए तक के बकायादार हैं जिनको नोटिस दिया गया है।


-अभी 10 हजार से नीचे वाले बकायादारों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।


-हो सकता है, क्योंकि 15 से 20 फीसदी बिलिंग में गड़बड़ी सामने आती है।


-उपभोक्ता हमारे पास आ रहे हैं, बिलिंग की दिक्कत को दूर किया जा रहा है।

X
Rajnandgaon News - 25 noticeable to non regular payouts 8500 650 connections too
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..