--Advertisement--

हनुमान जैसा वीर इस संसार में न हुआ है, न होगा: मुनि

हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर महावीर भवन में छत्तीसगढ़ प्रवर्तक महाश्रवण संत रतनमुनि मासा ने हनुमान की महिमा का...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:10 AM IST
हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर महावीर भवन में छत्तीसगढ़ प्रवर्तक महाश्रवण संत रतनमुनि मासा ने हनुमान की महिमा का बखान किया। उन्होंने बड़े विस्तार पूर्वक रामभक्त हनुमान के जीवन चरित्र का श्रवण कराया।

हनुमान पूरे जीवन पर्यंत ब्रम्हचारी रहे। उनके जैसा वीर इस संसार में न तो हुआ है और न ही होगा। जन्मोत्सव मनाने छत्तीसगढ़ के दुर्ग, राजनांदगांव, छुरिया, डोंगरगांव, भिलाई, मध्यप्रदेश के जबलपुर, बालाघाट, महाराष्ट्र के सालेकसा, आमगांव, गोंदिया, गोरेगांव, मुंबई, नवेगांव सहित अन्य क्षेत्रों के साधक बड़ी संख्या में पहुंचे।

हुआ श्रवण संघीय मिलन: धर्मनगरी में प्रथम बार जैन धर्म के साधु-साध्वियों का मिलन हुआ। स्थानीय जैन समाज सहित आस-पास के क्षेत्रवासियों में धर्म की लहर फैल गई। 35 वर्षों बाद रतनमुनि मासा की शिष्या जीन प्रभा व चंद्रप्रभा ने अपने गुरूदेव रतनमुनि से मिली। कार्यक्रम में गुरू मासा के जीवन चरित्र का सरल व गहरे भावों से बखान किया। गुरु महिमा का सुंदर विवरण करते हुए दीक्षा प्रदाता के प्रति साधुवाद ज्ञापित किया। महावीर भवन में प्रात: 6 बजे से प्रार्थना, सुबह 9 से 10 बजे तक प्रवचन, दोपहर मंगलपाठ तथा संध्या स्त्रोत पाठ, स्वाध्याय, ज्ञानचर्चा प्रतिदिन चल रही है। प्रवचन का प्रारंभ नवकार महामंत्र जाप से होता है।