• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Rajnandgaon
  • सम्मेलन में वस्तुओं की लगाई गई प्रदर्शनी, संस्कृत में परफ्यूम को सुगंध द्रव्यम तो नेल पॉलिश को नखरज्जनी कहते हैं, यह बताया
--Advertisement--

सम्मेलन में वस्तुओं की लगाई गई प्रदर्शनी, संस्कृत में परफ्यूम को सुगंध द्रव्यम तो नेल पॉलिश को नखरज्जनी कहते हैं, यह बताया

Rajnandgaon News - संस्कृत भारती की ओर से रविवार को गौरवपथ किनारे स्थित ऑडिटोरियम में जनपद संस्कृत सम्मेलन का आयोजन किया गया। हॉल...

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2018, 03:25 AM IST
सम्मेलन में वस्तुओं की लगाई गई प्रदर्शनी, संस्कृत में परफ्यूम को सुगंध द्रव्यम तो नेल पॉलिश को नखरज्जनी कहते हैं, यह बताया
संस्कृत भारती की ओर से रविवार को गौरवपथ किनारे स्थित ऑडिटोरियम में जनपद संस्कृत सम्मेलन का आयोजन किया गया। हॉल में दैनिक जीवन में उपयोग की वस्तुओं की प्रदर्शनी भी लगाई गई थी। जिनके नामों का संस्कृत भाषा में उल्लेख किया गया था। यहां संस्कृत अनुवाद में परफ्यूम को सुगंध द्रव्यम तो नेल पॉलिश को नखरज्जनी बताया गया। वहीं माउथ फ्रेशनर का अनुवाद मुख-फेन कम के तौर पर किया गया।

कार्यक्रम की शुरुआत सुबह 11 बजे से हुई। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि समाज कल्याण बोर्ड की चेयरमैन शोभा सोनी थी। विशिष्ट अतिथि के रूप में दिग्विजय कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आरएन सिंह, साइंस कॉलेज की प्राचार्य सुमन सिंह बघेल मौजूद थी। वहीं मुख्यवक्ता के रूप में संस्कृत भारती के मध्यक्षेत्र संगठन मंत्री प्रमोद पंडित रहेे। कॉलेज हिंदी विभाग के अध्यक्ष शंकर मुनि राय, आरएसएस के नगर संचालक विष्णु साव भी मौजूद थे।

भाषा से जुड़ाव

व्यवहारिक बोलचाल में संस्कृत भाषा का किस तरह उपयोग किया जाए, स्कूली बच्चों को दी जानकारी, प्रेरित भी किया

राजनांदगांव. प्रदर्शनी में वस्तुओं के नाम संस्कृत में बताए गए, पोस्टर भी लगाए।

पोस्टर लगाए, संस्कृत भाषा में हुए विविध कार्यक्रम

बच्चे संस्कृत भाषा का उपयोग करें इसके लिए संस्कृत भाषा में पूरे कार्यक्रम का निष्पादन किया गया। कार्यक्रम में वस्तुओं की प्रदर्शनी के अलावा संस्कृत पुस्तिकाओं का स्टॉल भी लगाया गया था। पोस्टरों के माध्यम से बच्चों को यह भी जानकारी दी गई कि संस्कृत का उपयोग आखिर कौन-कौन से क्षेत्र में किया गया।

संस्कृत भाषा पर आधारित नाट्य का बच्चों ने किया मंचन

स्कूली बच्चों ने संस्कृत भाषा पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी और नाट्य मंचन किया। संस्कृत गीतों की प्रस्तुति भी दी गई। शंकर मुनि राय ने बताया कि संस्कृत भारती इस तरह के आयोजन करते रहती है।

संस्कृत तो हमारे डीएनए में समाहित है: प्रमोद पंडित

कार्यक्रम के दौरान संस्कृत भारती के मध्यक्षेत्र संगठन मंत्री प्रमोद पंडित ने कहा कि संस्कृत हमारे डीएनए में है। भारतीय भाषा के अंदर भी संस्कृत छिपी हुई है। संस्कृत ही भारतीय संस्कृति है। इसे अपनाए। डॉ. आरएन सिंह ने कहा कि संस्कृत विद्वानों की भाषा है। आज रोजगार की दृष्टि से संस्कृत भाषा की महत्ता और भी बढ़ गई है।

X
सम्मेलन में वस्तुओं की लगाई गई प्रदर्शनी, संस्कृत में परफ्यूम को सुगंध द्रव्यम तो नेल पॉलिश को नखरज्जनी कहते हैं, यह बताया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..