--Advertisement--

1. 22 सितंबर 2011 को सरकारी शिविरों में मोतियाबिंद ऑपरेशन

1. 22 सितंबर 2011 को सरकारी शिविरों में मोतियाबिंद ऑपरेशन के दौरान लापरवाही के चलते करीब पांच दर्जन लोगों की आंखों की...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:40 AM IST
1. 22 सितंबर 2011 को सरकारी शिविरों में मोतियाबिंद ऑपरेशन के दौरान लापरवाही के चलते करीब पांच दर्जन लोगों की आंखों की रोशनी चली गई थी। बालोद में 48, बागबाहरा में 12, राजनांदगांव-कवर्धा में 4-5 लोग इसके शिकार हुए। इस मामले में दुर्ग सीएमओ समेत बालोद बीएमओ, तीन नेत्र सर्जन आदि सस्पेंड हुए थे।