मितानिन होने से चरित्र पर की शंका, मीटिंग में गई तो डांट कर लाया, गमछे से गला घोंटा

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:40 AM IST

Rajnandgaon News - खैरागढ़ के गाडाडीह में रहने वाली 35 वर्षीय लता वर्मा की संदेहास्पद मौत हत्या निकली है। लता के पति संजय वर्मा ने ही...

Rajnandgaon News - chhattisgarh news being skeptical about the character went to the meeting scolded him threw it off with a dum
खैरागढ़ के गाडाडीह में रहने वाली 35 वर्षीय लता वर्मा की संदेहास्पद मौत हत्या निकली है। लता के पति संजय वर्मा ने ही उसकी गमछे से मुंह दबाकर हत्या कर दी थी, हत्या की वजह प|ी के चरित्र पर संदेह को बताया है। मायके पक्ष के जांच की मांग के बाद पुलिस ने सक्रियता दिखाई और पूरे मामले का खुलासा हो सका।

मृतका लता वर्मा स्वास्थ्य विभाग में मितानिन थी, इसी के चलते उसे घर से बाहर निकलना पड़ता था, लेकिन बेरोजगार पति संजय को प|ी का बाहर जाना पसंद नहीं था, उस पर चरित्र खराब होने का आरोप लगाकर विवाद करता रहता। 7 मई को मृतका लता ब्लाॅक के ही संडी गांव में आयोजित मितानिनों की बैठक में गई थी, जहां संजय गाली गलौज कर उसे वापस ले आया। लता पर चरित्र शंका के आरोप लगाकर मारने लगा व गमछे से हत्या कर दी।

होशियारी नाकाम: डॉक्टर ने पीएम की बात कही तो करने लगा विवाद, भागा भी

प|ी को अचेत बताकर खुद ही लाया था अस्पताल

लता की हत्या करने के बाद संजय उसे खुद हास्पिटल लेकर पहुंचा। डॉक्टरों को बताया कि प|ी अचेत होकर गिर पड़ी है। डॉक्टरों ने जैसे ही लता की जांच की मौत की पुष्टि हुई। इसके बाद शव के पीएम के लिए लिखा, लेकिन संजय पीएम नहीं करने की बात पर अड़ गया। डॉक्टर उसे समझाइश देते रहे लेकिन संजय विवाद करने लगा। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पीएम के भेजा। संजय शव फरार हो गया।

बच्चों ने मामा को फोन कर दी जानकारी

लता के तीन बच्चे हैं, जिनमें उसकी 13 साल की बेटी ने मां के हाॅस्पिटल ले जाने की सूचना अपने मामा को दी। लता का मायका पक्ष हाॅस्पिटल पहुंचा,उन्होने तत्काल पुलिस से शिकायत कर जांच का निवेदन किया। पीएम मेंे बाद लता की हत्या की पुष्टि हुई।

रिश्तेदार के घर ममता नगर में छिपा था

प|ी की हत्या के बाद से फरार संजय वर्मा राजनांदगांव के ममता नगर में अपने रिश्तेदार के घर में छिपा था, पुलिस उसके तलाश में जुटी हुई थी, लेकिन उसका कोई पता नहीं चल रहा था। इसी बीच पुलिस को मुखबीर से संजय के बारे में सूचना मिली और ममता नगर से उसे दबोचा गया।

पिता बोले- तीन बच्चों की खातिर लता ऐसी जिंदगी बीता रही थी, बेरोजगार था पति

मृतका लता के पिता इंकार वर्मा ने बताया कि लता की शादी 2003 में हुई थी, संजय उससे विवाद करता रहता था, सब कुछ ठीक हो जाने की उम्मीद में लता अपने ससुराल में रही। मायके लौट जाने की बात कहने पर भी नहीं आई। इस बीच उनके तीन बच्चे भी हुए, लेकिन संजय की हरकतें कम नहीं हुई। अब तीन बच्चों के भविष्य की चिंता में लता संजय की प्रताड़ना सहकर साथ ही जिंदगी बीता रही थी। संजय बेरोजगार था तो मितानिन का काम कर लता घर के खर्चे चलाती थी, बच्चों काे पढ़ा रही थी। लेकिन वह हैवान बन गया

जिसके जिम्मे थी परिवार की जवाबदारी वही खत्म

परिवार की जिम्मेदारी सम्हाल रही प|ी पर चरित्र की शंका और विवाद ने पूरे परिवार को तबाह कर दिया। संजय और लता की 13 साल की बेटी के अलावा 9 और 11 साल के दाे बेटे भी है। इन बच्चों के सर से मां का साया तो उठ गया,पिता की जिंदगी भी अब जेल में कटेगी।

वारदात वाले दिन गमछे से मुंह दबाकर हत्या की


X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news being skeptical about the character went to the meeting scolded him threw it off with a dum
COMMENT