पहचान होगी अासान आदेश में कहा-अखाद्य बर्फ में मिलाएं इंडिगो कारमाइन या ब्रिलिएंट, ब्लू कलर

Rajnandgaon News - अब खाद्य और अखाद्य बर्फ को पहचानने में दिक्कत नहीं होगी क्योंकि अखाद्य बर्फ में नीला कलर मिलाया जाएगा। केंद्र...

Bhaskar News Network

May 17, 2019, 07:46 AM IST
Rajnandgaon News - chhattisgarh news identity will be said in the odd order mix indigo ice indigo caramine or brilliant blue color
अब खाद्य और अखाद्य बर्फ को पहचानने में दिक्कत नहीं होगी क्योंकि अखाद्य बर्फ में नीला कलर मिलाया जाएगा। केंद्र सरकार से आदेश मिलने के बाद खाद्य एवं औषधि प्रशासन छत्तीसगढ़ ने पूरे प्रदेश में इसे फॉलो करने के लिए सर्कुलर जारी कर दिया है।

सर्कुलर में खाद्य और अखाद्य बर्फ को बनाने के लिए मापदंड भी तय किए गए हैं। यदि फैक्ट्री संचालक इसे फॉलो नहीं करते हैं तो कार्रवाई होगी। सर्कुलर को फॉलो कराने स्थानीय अमले को निर्देशित किया जा चुका है। इस आदेश से बर्फ को पहचानने में आसानी होगी।

स्वास्थ्य के नुकसान से भी बचेंगे लोग, गंदे पानी के इस्तेमाल पर लगेगी रोक :- इस आदेश के बाद अब अफसरों को जांच के साथ-साथ कार्रवाई करने में भी सहूलियत होगी। इससे पहले तक जब भी एफएसओ छापामार कार्रवाई तो संचालक गंदा पानी से बर्फ बनाने के बाद भी बच निकलते थे, उस समय संचालक कहते थे कि यह बर्फ अखाद्य है, इसे खाने के लिए नहीं बनाया गया है। लेकिन अब संचालक आंखों में धूल नहीं झोंक पाएंगे।

आरओ वॉटर से बनेगी खाने वाली बर्फ, अब अखाद्य बर्फ होगी नीले रंग की, अफसरों को भी जांच और कार्रवाई में होगी सुविधा

केंद्र सरकार के आदेश के बाद खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने सर्कुलर जारी किया

जानिए, क्या लिखा गया है आदेश में

आदेश में लिखा है कि अखाद्य बर्फ को गैर पाने योग्य पानी से बनाया जाता है। यह खाने योग्य नहीं है, इससे स्वास्थ्य को खतरा हो सकता है। खाद्य और अखाद्य बर्फ के बीच किसी भी तरह का फर्क नहीं होने के कारण इसे पहचानने में दिक्कत होती है। खाद्य सुरक्षा और मानक विनियम 2011 में खाद्य बर्फ के मानक 2.7.5 में निर्धारित किया गया है। एफएसएसएआई पत्र में भी इसका उल्लेख है। गैर खाद्य बर्फ के दुरुपयोग को खाद्य बर्फ के रूप में जांचने की दृष्टि से यह तय किया गया है कि इंडिगो कारमाइन या ब्रिलिएंट ब्लू कलर को 10 पीपीएम का उपयोग गैर खाद्य बर्फ के उत्पादन में किया जाना चाहिए।

अमल नहीं करने पर कार्रवाई करेंगे

वहीं खाद्य बर्फ को आरओ वाटर से बनाने के निर्देश दिए हैं। ऐसा नहीं करने पर कार्रवाई की जाएगी। शहर में दो, डोंगरगांव में एक और डोंगरगांव में एक बर्फ फैक्ट्री का संचालन किया जा रहा है। इन फैक्ट्रियों में सर्कुलर का फॉलो शुरू नहीं हो पाया है। हालांकि अफसरों ने कहा कि नियम को जल्द फॉलो कराया जाएगा। नहीं करने पर संबंधित कारोबारी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। अखाद्य नीले रंग के बर्फ का उपयोग मांसाहारी खाद्य उत्पाद जैसे मीट, मछली, समुद्री खाद्य उत्पाद आदि तथा शाकाहारी खाद्य उत्पाद जैसे दूध, फल और सब्जियां, अन्य शीघ्र खराब होने वाले खाद्य उत्पादों में किया जाता है।

चलाया अभियान, डोंगरगांव में डिस्पोजल बैन की कार्रवाई

राजस्व, नगरीय निकाय व फूड सेफ्टी डिपार्टमेंट ने संयुक्त रूप से डोंगरगांव में डिस्पोजल बैन अभियान चलाया। अभियान के तहत चखना सेंटर, किराना दुकान, होटल आदि में निरीक्षण कर डिस्पोजल गिलास, पॉलीथिन की जब्ती कार्रवाई की गई। एक किराना स्टोर में एक्सपायरी डेट का आचार बेचा जा रहा था। चार किलो के आचार को जब्त कर कार्रवाई की गई। अफसरों ने व्यापारियों के कहा कि वे डिस्पोजल का विक्रय नहीं करेंगे।

विभाग का आदेश आया है, फॉलो कराया जाएगा


X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news identity will be said in the odd order mix indigo ice indigo caramine or brilliant blue color
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना