केंद्र से नहीं पहुंचा फंड, कॉलेज में फर्नीचर व शिक्षक नहीं मिल पाए

Rajnandgaon News - जिला मुख्यालय से 12 किलोमीटर दूर ग्राम सोमनी में बना प्रदेश का पहला मॉडल कॉलेज सफेद हाथी साबित हो रहा है। केंद्र से...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 03:31 AM IST
Rajnandgaon News - chhattisgarh news no access to funds from the center furniture and teachers in college
जिला मुख्यालय से 12 किलोमीटर दूर ग्राम सोमनी में बना प्रदेश का पहला मॉडल कॉलेज सफेद हाथी साबित हो रहा है। केंद्र से फंड नहीं मिलने के कारण कॉलेज के लिए फर्नीचरण, उपकरण और शिक्षकीय सेटअप की पूर्ति अब तक नहीं की जा सकी है। जबकि चुनाव से पहले पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कॉलेज भवन का लोकार्पण किया था। सेटअप नहीं होने के कारण मॉडल कॉलेज के 70 स्टूडेंट्स मजबूरी में दिग्विजय कॉलेज में पढ़ाई कर रहे हंै।

राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) ने कॉलेज बनवाया है। 2016 में तात्कालीन केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कॉलेज की आधारशिला रखी थी। 10 करोड़ की लागत से पांच एकड़ भूमि पर कॉलेज का निर्माण कराया गया है। 2018 सिंतबर में भवन बनकर तैयार हुआ। लेकिन फर्नीचर, लैब उपकरण और शिक्षकीय सेटअप प्रदान नहीं करने के कारण कॉलेज का संचालन नहीं हो पा रहा है। जिम्मेदार फंड की कमी को वजह बता रहे है।

रेगुलर की जगह संविदा पोस्ट में फंसा पेंच

राजनांदगांव. सोमनी में बना मॉडल कॉलेज यहां समस्या बनी हुई है।

बीएससी मैथ्स व कम्प्यूटर विषय में होगी पढ़ाई

एजुकेशन हब के लिहाज से कॉलेज को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है, लेकिन संचालन में हो रही लेटलतिफि से स्टूडेंट्स परेशानी में आ गए है। कॉलेज में बीएससी मैथामेटिक्स विथ कम्प्यूटर साइंस की पढ़ाई की जानी है, वर्तमान में कॉलेज के स्टूडेंट्स दिग्विजय कॉलेज में पढ़ाई कर रहे है, जहां पर पहले से ही काफी स्टूडेंट्स अध्ययनरत है, ऐसे में अध्यापन व्यवस्था बनाने में दिक्कत हो रही है।

प्रस्ताव अक्टूबर में केंद्र सरकार को भेज दिया गया

इस मामले को लेकर भास्कर ने जिम्मेदारों से चर्चा की। उनका कहना था कि स्वीकृति के समय कॉलेज को जो पोस्ट दिए गए थे वे संविदा बेस्ड थे, इन पोस्ट को रेगुलर कराने की मांग की जा रही है। प्रस्ताव अक्टूबर में केंद्र सरकार को भेज दिया गया है। लेकिन अब तक जवाब नहीं मिला है। ऐसे में कॉलेज में सेटअप की पूर्ति नहीं की सकी है। इस तमाम अव्यवस्था का खामियाजा यहां पढञ रहे छात्र-छात्राओं को भुगतना पड़ रहा है।

रोजगार मूलक कोर्स लाएंगे

राेजगार मूलक कोर्स कराने की मंशा से मॉडल कॉलेज बनवाया गया है। अधिकारियों की मानें तो युवाओं को अब उच्च शिक्षा के लिए जिले से बाहर नहीं जाना पड़ेगा। मॉडल कॉलेज में स्टूडेंट्स को रोजगार मूलक कोर्स में ट्रेनिंग देकर दक्ष बनाया जाएगा। ताकि रोजगार पाने की संभावना बढ़े।

  भुवनेश यादव, प्रोजे. डाय., रूसा

रेगुलर करने प्रस्ताव भेजा


-कॉलेज में शिक्षकीय सेटअप नहीं है, इसलिए देरी हो रही है।


-पहले संविदा सेटअप दिया गया था, जिसे रेगुलर करने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है।


-केंद्र से फंड नहीं आया है, इसलिए उपकरण और फर्नीचर नहीं खरीदे जा सके है।


-दिग्विजय कॉलेज में स्टूडेंट्स पढ़ाई कर रहे है।


-अगले सत्र से पहले ही सेटअप आ जाएगा, ऐसी उम्मीद है।

X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news no access to funds from the center furniture and teachers in college
COMMENT