राधाकृष्ण स्वयं नृत्य करते हुए भक्तों के संग उत्साह से खेलेंगे फूलों की होली

Rajnandgaon News - संस्कारधानी नगरी में श्री श्याम परिवार मित्र मंडल द्वारा 22 वर्षों से निरन्तर श्याम महोत्सव के अंतर्गत सुमधुर...

Bhaskar News Network

Mar 16, 2019, 03:15 AM IST
Rajnandgaon News - chhattisgarh news radhakrishna will dance with the devotees with the enthusiasm of the flowers holi
संस्कारधानी नगरी में श्री श्याम परिवार मित्र मंडल द्वारा 22 वर्षों से निरन्तर श्याम महोत्सव के अंतर्गत सुमधुर भजन-नृत्य नाटिका एवं सवामनी प्रसादी के कार्यक्रम हो रहे हैं। इस वर्ष 23वां दो दिवसीय फागुन महोत्सव 17 एवं 18 मार्च को आयोजित है। श्री श्याम परिवार मित्र मंडल द्वारा खाटूधाम उदयाचल प्रांगण में आयोजित फागुन महोत्सव के पहले दिन 17 मार्च को श्री श्याम प्रभु का भव्य दरबार सजाया जाएगा। दोपहर 4 बजे से अंचल के सुप्रसिद्ध भागवताचार्य एवम सुमधुर भजन गायक शुभम महाराज द्वारा संगीतमय सुंदरकांड का पाठ किया जाएगा।

सुंदरकांड पाठ के पूर्ण होते ही शाम साढ़े 6 बजे से प्रयागराज निवासी सुप्रसिद्ध श्याम भक्त जुली सिंह एवम प्रदीप सांवरा द्वारा अपने सुमधुर भजनों की अमृतगंगा प्रवाहित की जाएगी। इसी दौरान कानपुर के कलाकारों द्वारा राधा कृष्ण का सजीव एवम मनमोहक स्वरूप धारणकर अद्भुत नृत्य किया जाएगा। इस भजन एवं नृत्य के दौरान इत्र, केशर, गुलाबजल एवम फूलों की होली खेलकर भक्तगण फागुन उत्सव का वास्तविक आनंद प्राप्त करेंगे। इस भाव एवं भक्तिपूर्ण प्रदर्शन के दौरान श्रद्धालु भक्त भाव विभोर होकर नृत्य करने आतुर हो जाएंगे। इस दौरान श्याम प्रभु का अलौकिक श्रृंगार दर्शन एवं अखंड ज्योति के दर्शन श्रद्धालु कर सकेंगे।

18 मार्च को ये होंगे आयोजन: 18 मार्च को सुबह 8 बजे से श्याम महिला मंडल, श्री हरि सत्संग भजन मंडल एवम श्याम भक्तों द्वारा श्री श्याम अखंड ज्योति पाठ किया जाएगा। दोपहर साढ़े 12 बजे महाआरती के बाद सवामनी प्रसादी होगी। सवामनी प्रसादी के दौरान भगवान राधाकृष्ण का स्वरूप धारण किए कलाकार पूरे पंडाल में घूम-घूम कर भक्तों के साथ फूलों की होली खेलते हुए भक्तों के मन को आनंदित एवं मोहित करेंगे।

X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news radhakrishna will dance with the devotees with the enthusiasm of the flowers holi
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना