--Advertisement--

फुटकर व्यापारी बोले - सालों से टैक्स दे रहे फिर कैसा अतिक्रमण

Rajnandgaon News - शहर की व्यवस्था सुधारने के नाम पर चल रही कार्रवाई ही सवालों के घेरे में आ गई है। गुरुद्वारा रोड के जिन दुकानों को...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 03:11 AM IST
Rajnandgaon News - the retail trader said the tax paid for years and then the encroachment
शहर की व्यवस्था सुधारने के नाम पर चल रही कार्रवाई ही सवालों के घेरे में आ गई है। गुरुद्वारा रोड के जिन दुकानों को अतिक्रमण बताकर 24 घंटे में खाली करने का अल्टीमेटम दिया गया है, उनके पास अस्थाई दखल शुल्क जमा करने की पर्ची मौजूद है। इधर निगम प्रशासन इस हिस्से से कभी टैक्स नहीं मिलने का दावा कर रहा है। ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि अगर इन दुकानदारों से निगम के कर्मचारियों ने टैक्स नहीं लिया तो निगम प्रशासन की सील मुहर वाली पर्चियां रुपए के एवज में कौन थमाकर चला गया।

निगम प्रशासन ने गुरुद्वारा से मानव मंदिर चौक रोड में मौजूद 30 दुकानदारों को नोटिस जारी किया है। इन्हें 24 घंटे के भीतर जगह खाली करने की चेतावनी दी है। इसका कारण इलाके में ट्रैफिक व्यवस्था बिगड़ना और आसपास के लोगों की शिकायत को बताया जा रहा है। लेकिन सालों बाद अचानक इस कार्रवाई से कई सवाल भी खड़े हो रहे हैं। अगर दुकानें अतिक्रमण कर बनाई गई थी, तो निगम अब तक इनसे टैक्स किस नियम के मुताबिक ले रहा था। दुकानदारों का पक्ष है कि वे जब से दुकान लगा रहे हैं, निगम को बाकायदा शुल्क देते हैं। हर महीने 300 रुपए का शुल्क निगमकर्मी को दिया जाता है, इनके पास इसकी रसीद भी मौजूद है। इससे निगम कर्मियों के द्वारा की गई गड़बड़ी जैसी आशंका भी सामने आ रही है।

निगम का यह दावा :दुकानदारों ने नहीं पटाया कोई टैक्स

राजनांदगांव.फुटकर व्यवसायियों पर कार्रवाई।

दोमुंहा चेहरा सामने ढाई करोड़ बकाया



निगम का पक्ष, नहीं दे रहे टैक्स, रिकाॅर्ड में नहीं

निगम प्रशासन का पक्ष है कि इस हिस्से के दुकानदार कोई टैक्स ही नहीं दे रहे हैं। रिकार्ड में ही नहीं है। इस लिहाज से यह अतिक्रमण है। जांच का विषय यह भी है कि जब निगम के पास इनके टैक्स का रिकाॅर्ड ही नहीं है तो निगम की सील मुहर वाली पर्ची थमाकर रुपए कौन वसूल रहा है।

सुनिए दुकानदारों की जुबानी, पर्ची भी दिखाया

केस 1. पुराने गुरुद्वारा के सामने जूता-चप्पल का ठेला चलाने वाले चंद्रभान ने बताया कि वे हर माह अस्थाई दखल शुल्क दे रहे हैं। करीब 30 साल से उनकी दुकान यहां है और 300 रुपए प्रतिमाह के हिसाब से शुल्क जमा कर पर्ची लेते हैं। उन्होंने पर्ची भी दिखाई।

केस 3. गुरुद्वारा रोड में ही दुकान चलाने वाले नरेंद्र रेड्डी ने बताया कि वे भी लगातार निगम को स्थाई दखल शुल्क दे रहे हैं। इसके बावजूद उन्हें भी नोटिस जारी कर दुकान हटाने कहा गया है। उनकी तरह हिस्से के करीब 30 दुकानदार हर महीने रुपए टैक्स के रूप में देते हैं।

अस्थायी दखल शुल्क की रसीद।

... तो टैक्स क्यों लिया: गुरुद्वारा रोड की करीब 30 दुकानों को अचानक हटाए जाने के फैसले पर निगम प्रशासन की कार्यप्रणाली पर ही सवाल खड़े हो गए हैं। बड़ी बात यह है कि सालों से जमे इन दुकानदारों पर पहले कार्रवाई क्यों नहीं की गई। अगर सड़क पर अतिक्रमण किया गया,तो इन्हे हटाने के बजाए अस्थाई दखल शुल्क के नाम पर राशि किस नियम के तौर पर लिया गया।

केस 2. दूसरे दुकानदार ने बताया कि उनके दुकान की पर्ची शोभा हठिले के नाम से कटती है। दो साल से लगातार वे निगम को अस्थाई दखल टैक्स दे रहे हैं। हर माह की पर्ची मौजूद है, इसके बाद उन्हें अतिक्रमण बताकर नोटिस थमाया गया है।

महापौर से बोले - घर चलाना मुश्किल होगा

दुकानदार अपना संगठन बनाकर शनिवार को महापौर मधुसूदन यादव से भी मिलने पहुंचे। जहां निगम प्रशासन की इस कार्रवाई को गलत बताया। उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि अगर दुकानें हटा दी जाएगी तो सालों से जमे फुटकर दुकानदार बेरोजगार हो जाएंगे और उनके सामने परिवार चलाने की समस्या खड़ी हो जाएगी।

इधर बूढ़ासागर के हिस्से में ठोंका जुर्माना

गुरुद्धारा के दूसरे हिस्से बूढ़ासागर के किनारे दुकान लगाने वालों पर जुर्माने की भी कार्रवाई की गई है। इस हिस्से के करीब 25 फूटकर दुकानदारों पर जुर्माना किया गया है। इसके अलावा 10 दिन के एवज में 100 रुपए टैक्स चुकाने की चेतावनी दी गई है। इस हिस्से में गरम कपड़ा बेचने वालों की दुकानें लग रही हैं।

अंतिम नोटिस दे रहे हैं


Rajnandgaon News - the retail trader said the tax paid for years and then the encroachment
Rajnandgaon News - the retail trader said the tax paid for years and then the encroachment
X
Rajnandgaon News - the retail trader said the tax paid for years and then the encroachment
Rajnandgaon News - the retail trader said the tax paid for years and then the encroachment
Rajnandgaon News - the retail trader said the tax paid for years and then the encroachment
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..