• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Sakti
  • पिंटू मेरे पिताजी लोगों के दुख सुख बांटते रहते हैं। चिंटू बड़े रहम दिल हैं तुम्हारे पिताजी, वह ऐसा कैसे करते हैं? पिंटू मेरे पिताजी पोस्टमैन हैं।
--Advertisement--

पिंटू- मेरे पिताजी लोगों के दुख-सुख बांटते रहते हैं। चिंटू- बड़े रहम दिल हैं तुम्हारे पिताजी, वह ऐसा कैसे करते हैं? पिंटू- मेरे पिताजी पोस्टमैन हैं।

Sakti News - सक्ती अकलतरा बाराद्वार बलौदा डभरा मालखरौदा ...

Dainik Bhaskar

Mar 07, 2018, 02:40 AM IST
पिंटू- मेरे पिताजी लोगों के दुख-सुख बांटते रहते हैं। चिंटू- बड़े रहम दिल हैं तुम्हारे पिताजी, वह ऐसा कैसे करते हैं? पिंटू- मेरे पिताजी पोस्टमैन हैं।
सक्ती

पिंटू- मेरे पिताजी लोगों के दुख-सुख बांटते रहते हैं। चिंटू- बड़े रहम दिल हैं तुम्हारे पिताजी, वह ऐसा कैसे करते हैं? पिंटू- मेरे पिताजी पोस्टमैन हैं।

X
पिंटू- मेरे पिताजी लोगों के दुख-सुख बांटते रहते हैं। चिंटू- बड़े रहम दिल हैं तुम्हारे पिताजी, वह ऐसा कैसे करते हैं? पिंटू- मेरे पिताजी पोस्टमैन हैं।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..