• Home
  • Chhattisgarh News
  • Sakti News
  • अनुशासन व नैतिकता के साथ बच्चों को संस्कार भी मिलता है सशिमं में: डॉ. साहू
--Advertisement--

अनुशासन व नैतिकता के साथ बच्चों को संस्कार भी मिलता है सशिमं में: डॉ. साहू

सरस्वती शिशु मंदिर में शनिवार को वार्षिकोत्सव का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक डॉ. खिलावन साहू...

Danik Bhaskar | Jan 08, 2018, 02:50 AM IST
सरस्वती शिशु मंदिर में शनिवार को वार्षिकोत्सव का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक डॉ. खिलावन साहू थे। इस मौके पर उन्होंने पं. दीनदयाल उपाध्याय कक्ष का लोकार्पण भी किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक डॉ. साहू ने शिशु मंदिर विद्यालय को अनुशासन एवं नैतिकता के साथ संस्कार प्रदान करने वाली संस्था बताया। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत पोरथा में उन्होंने 15 करोड़ के विकास कार्यों की स्वीकृति राज्य सरकार से दिलाई है जिसमें से कई विकास कार्य पूरे हो चुके हैं और बाकी प्रगति पर है। और भी विकास कार्यों के लिए उन्होंने राज्य सरकार से स्वीकृति मांगी है।

उन्होंने कहा कि पोरथा के अलावा हर ग्राम पंचायत में जहां कमिया है उनको पूरा करने प्रयास किया जा रहा है। कार्यक्रम को अध्यक्षता कर रहे भाजपा किसान नेता प्रीतम सिंह गबेल, विशिष्ट अतिथि पूर्व भाजपा मंडल अध्यक्ष धनेश्वर राठौर, ग्राम सरपंच श्याम राठौर, भाजपा जिला उपाध्यक्ष रामअवतार अग्रवाल, जनपद सदस्य मधुप्रदीप राठौर ने भी संबोधित किया। इस मौके पर बाबूलाल राठौर, धनेश्वर राठौर, श्याम राठौर, बहुरंग साहू, केशव यादव, भुनेश्वर प्रसाद पाण्डेय, छोटेलाल यादव समेत दुर्गावाहिनी शिक्षक समिति के पदाधिकारी, कार्यकर्ता, शिक्षक-शिक्षिकाएं, छात्र-छात्राएं व ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे ।

सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करते विद्यार्थी

प्रतिभावान छात्र-छात्राओं का हुआ सम्मान

आयोजन के दौरान संस्था में 10वीं एवं 8वीं की कक्षाओं में सर्वोच्च अंक पाने वाले छात्र-छात्राएं कु. ममता जायसवाल, अाकांक्षा राठौर, राजू साहू, गरिमा राठौर, जीवंतिका सोनी, मानसी सोनी सहित कु. रिया यादव, मुस्कान देवांगन, खिलांशी चौहान को प्रमाण पत्र एवं पदक देकर सम्मानित किया गया। वही संस्था के ऐसे शिक्षक जिनके विषय में छात्रों ने 80 प्रतिशत से अधिक अंक लाया, उन्हें भी सम्मानित किया गया। आयोजन के दौरान छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम के तहत नृत्य, नाट्य, प्रहसन एवं एकांकी प्रस्तुत किए।