• Home
  • Chhattisgarh News
  • Sakti News
  • लाेगों पर हमला करने वाला भालू 8 घंटे तक छकाता रहा, बेहोश कर पकड़ा
--Advertisement--

लाेगों पर हमला करने वाला भालू 8 घंटे तक छकाता रहा, बेहोश कर पकड़ा

समीपस्थ ग्राम सरहर में फिर एक बार बुधवार की सुबह ग्रामीणों ने भालू देखा, जिसकी सूचना वन विभाग को दी गई। बिलासपुर और...

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 02:55 AM IST
समीपस्थ ग्राम सरहर में फिर एक बार बुधवार की सुबह ग्रामीणों ने भालू देखा, जिसकी सूचना वन विभाग को दी गई। बिलासपुर और सक्ती से रेस्क्यू टीम गांव पहुंची और करीब आठ घंटे तक भालू टीम काे छकाता रहा, बड़ी मुश्किल से टीम ने भालू को ट्रेकुलाइज किया और बेहोश होने के बाद पकड़ा आैर कानन पेंडारी ले जाया गया।

सरहर क्षेत्र में लगातार भालू ग्रामीणों को दिखाई दे रहा था। करीब बीस दिनों पहले दो ग्रामीणों पर हमला भी किया था। हमला करने के बाद भालू भाग जाता था। बुधवार की सुबह करीब 6 बजे ग्राम सरहर के ग्रामीणों ने फिर से भालू देखा और वन विभाग के अधिकारियों को सूचना दी। डीएफओ सतोविशा समाजदार ने बिलासपुर कानन पेंडारी के डॉ. पीके चंदन को अपनी रेस्क्यू टीम के साथ ग्राम सरहर में पहुंचने के निर्देश दिये -शेष|पेज 17

एवं रेंजर एमआर साहू, डिप्टी रेंजर जितेंद्र कंवर, अमर सिंह कंवर बाराद्वार एवं सक्ती की पूरी वन विभाग की टीम एवं वन रक्षक प्रशिक्षण केन्द्र सक्ती के करीब 50 से अधिक कर्मचारियों की टीम भी सुबह 7 बजे से ग्राम सरहर पहुंचकर भालू की तलाश में जुट गई। दोपहर करीब 12 बजे बिलासपुर से रेस्क्यू टीम ग्राम सरहर पहुंची, जिसके करीब 2 घंटे के बाद टीम को एक नर भालू ग्राम सरहर एवं लच्छनपुर के बीच साव तालाब के पास के रामबती लाखनसाव फाउंडेशन के खेतों में दिखाई दिया।

18 फरवरी को दाे ग्रामीणों को किया था घायल

ग्राम सरहर में विगत 18 फरवरी को करीब 11.30 बजे कुम्हारीकला मार्ग पर स्थित खेतों में काम कर रहे ग्रामीणों के ऊपर भालू के हमले से दो ग्रामीण घायल हो गये थे। तब से सरहर सहित आसपास के गांवों में भालू को लेकर डर का माहौल था एवं वन विभाग की टीम भी लगातार भालू के खोजबीन में लगी हुई थी। रोज सरहर के अलावा दुरपा, बाराद्वार के वार्ड नं. 1, पलाडीकला, लच्छनपुर, खम्हरिया व आसपास के गावों से वन विभाग को भालू को देखने की सूचना मिल रही थी, लेकिन वन विभाग की टीम मौके पर पहुंचती थी, हालांकि भालू के हमले से क्षेत्र में कोई जनहानि नहीं हुई लेकिन लोग डरे हुए थे। भालू के पकड़े जाने से लोगों ने राहत की सांस ली है।

भालू को पिंजरे में भरते वन विभाग के कर्मचारी।

तीसरी बार में लगा निशाना

रेस्क्यू टीम ने 2 डार्ट भालू के ऊपर फायर किया, जो उसे नहीं लगा, जिसके बाद तीसरा डार्ट फायर करने के बाद भालू को लगा एवं वह बेहोश हो गया, जिसके बाद रेस्क्यू टीम ने उसे उठाकर पिंजरे में बंद कर दिया एवं बाराद्वार वन विभाग के डिपो लाया गया। बिलासपुर रेस्क्यू टीम के डॉ. पीके चंदन ने बताया कि नर भालू जवान हैं, जिसे अचानकमार टाइगर रिजर्व में छोड़ा जाएगा।