Hindi News »Chhatisgarh »Sakti» टेमर में तालाब पार पर बनवाए दो टायलेट, सीईओ ने कहा तुड़वाएंगे

टेमर में तालाब पार पर बनवाए दो टायलेट, सीईओ ने कहा तुड़वाएंगे

स्वच्छ भारत मिशन के नाम पर गड़बड़ी की जा रही है। शासकीय राशि का दुरूपयोग हो रहा है। ग्राम टेमर में तालाब पार के ऊपर दो...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 30, 2018, 03:55 AM IST

टेमर में तालाब पार पर बनवाए दो टायलेट, सीईओ ने कहा तुड़वाएंगे
स्वच्छ भारत मिशन के नाम पर गड़बड़ी की जा रही है। शासकीय राशि का दुरूपयोग हो रहा है। ग्राम टेमर में तालाब पार के ऊपर दो शौचालय का निर्माण करा दिया गया है। चौंकाने वाली बात यह है कि वहां किसी का मकान भी नहीं है। टायलेट पर ताला लगा है। अब मामला प्रकाश में आने पर जनपद सीईओ भुगतान नहीं करने और टायलेट को तोड़वाने की बात कह रहे हैं।

खुले में शौच मुक्त करने की होड़ में ग्राम पंचायत के सरपंच और सचिवों ने आंख मूंदकर सरकारी राशि का दुरूपयोग किया है। उन स्थानों पर भी टॉयलेट बनवा दिए जहां उपयोग ही नहीं और सरकार ने भी वहां बनाने से मना किया है। सरकार की गाइड लाइन के मुताबिक तालाब या बेजाकब्जा कर बनाए गए मकानों में शौचालय नहीं बनाना है मगर ग्राम पंचायत टेमर में इस आदेश को दरकिनार कर दिया गया। तालाब पार में बने शौचालयों में हितग्राहियों का नाम भी लिखा गया है। सरकारी राशि का दुरूपयोग करने अधिकारी और जिम्मेदार जनप्रतिनिधि नहीं चूक रहे।

भास्कर सुझाव: अब इसे बना दें सार्वजनिक टॉयलेट

गाइड लाइन के अनुसार तालाब पार में किसी हितग्राही के नाम से टॉयलेट नहीं बनाया जाना चाहिए, चूंकि टॉयलेट का निर्माण हो गया है, इसे तोड़ने से भी नुकसान ही होना है। वैसे भी तालाब के पास यह उपयोगी ही है, इसे तोड़ने की बात सीईओ कह रहे हैं, किंतु इसे तोड़ना उचित नहीं बल्कि इसे सार्वजनिक शौचालय बनाकर इसका उपयोग कराया जाना चाहिए।

बनवा दिए हैं टॉयलेट, दरवाजे नहीं लगाए

कई ग्राम पंचायतों में शौचालय बनाने तीन ओर दीवार उठाकर ऊपर सीमेंट की चादर लगा दी गई है, परंतु दरवाजे नहीं लगाए गए है। ग्राम पंचायत बरपालीकला में स्कूल में इसी तरह से शौचालय बनाए गए हैं। इस संबंध में ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों से जनसमस्या निवारण शिविर एवं लोक सुराज शिविर मंे शिकायतें भी की है मगर अब तक कार्रवाई नहीं हुई।

दोषी लोगों पर कार्रवाई करेंगे

ग्राम पंचायत टेमर में दो शौचालय तालाब के पार में बनाया गया है उनका भुगतान नहीं होगा। उसे तोड़ने की कार्रवाई की जाएगी। तालाब पार में शौचालय का निर्माण नहीं होना है। मामले में जो भी दोषी है उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। एसएस पोयाम, सीईओ सक्ती

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sakti

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×