--Advertisement--

रेलवे लाइन के किनारे सड़क बनाने की मांग

बाराद्वार से नगरदा के बीच 24 करोड़ 53 लाख की लागत से 13.4 किमी लंबी सड़क का निर्माण पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा कराया जा रहा...

Danik Bhaskar | Feb 04, 2018, 05:45 AM IST
बाराद्वार से नगरदा के बीच 24 करोड़ 53 लाख की लागत से 13.4 किमी लंबी सड़क का निर्माण पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा कराया जा रहा है, लेकिन बीच में मकान और घनी बसाहट होने के कारण लोगों द्वारा जैजैपुर नाका चौक से रेलवे लाइन के बगल से फाटक तक बनाई जाए। शनिवार को कलेक्टर ने सड़क निर्माण स्थल का निरीक्षण किया तब लोगों ने अपनी समस्या से उन्हें अवगत कराया।

दरअसल सड़क निर्माण पिछले साल नगरदा की ओर से शुरू हुआ था। नगरदा से बाराद्वार के वार्ड क्रमांक 1 तक पर सड़क निर्माण हो रहा है। बाराद्वार के नेहरू चौक से नगरदा गांव के अंत तक सड़क बननी हैं, लेकिन बाराद्वार में नेहरू चौक से रेल्वे फाटक तक सड़क बीच बस्ती से होकर गुजरी है। यहां पर निर्माण के लिए पर्याप्त चौड़ाई नहीं हैं। मार्ग पर कई मकान बने हुए हैं। घनी बसाहट होने के कारण लोगों द्वारा मांग की जा रही है कि नेहरू चौक से रेल्वे फाटक तक बीच बस्ती को न लेते हुए जैजैपुर नाका चौक से रेलवे लाइन के बगल से फाटक तक बनाई जाए। जैजैपुर नाका चौक से रेलवे लाइन के बगल से फाटक तक नेहरू चौक से फाटक के बीच घनी बसाहट होने के कारण अधिक नुकसान होगा एवं बीच बस्ती से बड़े वाहनों की आवाजाही नहीं होगी। एक महीने से नेहरू चौक से फाटक के बीच रहने वाले लोगों एवं पीडब्लूडी विभाग के अधिकारियों के बीच कई बार बैठक हो चुकी है लेकिन कोई नतीजा अब तक नहीं निकल पाया है।



अफसरों से चर्चा करते कलेक्टर।

ऐसा विकल्प निकालें जिसमें कम हानि हो

कलेक्टर ने नेहरू चौक से रेलवे फाटक तक पैदल चलकर पूरे मार्ग का निरीक्षण किया। नेहरू चौक से फाटक के बीच रहने वाले लोगों से बाते भी की।। एसडीएम सक्ती इन्द्रजीत बर्मन एवं पीडब्लूडी विभाग व नपं के अधिकारियों से भू-अर्जन एवं सड़क निर्माण के संबंध में जानकारी ली और कहा कि नेहरू चौक से रेलवे फाटक वाले इस मार्ग के अलावा और अन्य संभावित मार्ग जिसमें कम नुकसान हो, ऐसे विकल्प निकालकर जल्द से जल्द जांच प्रतिवेदन उन्हें दे।

गुणवत्ता को लेकर विधायक नाराज

बाराद्वार से नगरदा के बीच हो रहे सड़क निर्माण कार्य की गुणवत्ता एवं धीमी गति को लेकर विधायक डॉ. खिलावन साहू ने भी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने गुणवत्ता एवं धीमी गति की शिकायत पीडब्लूडी मंत्री एवं कलेक्टर से की है। विधानसभा में भी प्रश्न लगाया है।