• Home
  • Chhattisgarh News
  • Sakti News
  • समाज में फैली कुरीतियों को मिटाने के लिए लोगों को जागरूक करना हम सबका है कर्तव्य: कश्यप
--Advertisement--

समाज में फैली कुरीतियों को मिटाने के लिए लोगों को जागरूक करना हम सबका है कर्तव्य: कश्यप

समाज में कुरीतियों को मिटाना और इन भ्रमित कुरीतियों के बारे में लोगों को जागरूक करना हम सबका कर्तव्य है। किसी को...

Danik Bhaskar | Mar 27, 2018, 06:10 AM IST
समाज में कुरीतियों को मिटाना और इन भ्रमित कुरीतियों के बारे में लोगों को जागरूक करना हम सबका कर्तव्य है। किसी को टोनही कहकर प्रताड़ित करना, अजमानतीय अपराध है।

यह बातें ग्राम सरवानी में तालुका विधिक सेवा समिति सक्ती द्वारा आयोजित विधिक एवं जागरूकता शिविर को संबोधित करते हुए न्यायिक मजिस्ट्रेट अगम कुमार कश्यप ने कही । उन्होंने कहा कि किसी भी अपराध की सूचना तत्काल थाने में देनी चाहिए। देरी से रिपोर्ट पर न्यायालय को संदेह होता है, इसलिए घटना की सूचना गांव के सरपंच, कोटवार को अवश्य देनी चाहिए। किसी कारणवश तत्काल थाना जाना संभव न हो तो मोबाइल से भी सूचना थाने में दी जा सकती है ताकि पुलिस आपकी मदद कर सके। महिलाओं की सुरक्षा के लिए कई कानून बनाए गए हैं जिसमें महिलाओं को इशाराबाजी करना, पीछा करना, घूरकर देखना तथा उसके चरित्र के बारे में टिप्पणी करना अजमानतीय अपराध है। शिविर के दौरान सरवानी सरपंच कुमारी बाई लहरे, पूर्व सरपंच उत्तम लहरे यादराम साहू, थानूराम पटेल, जानूराम पटेल, रामेश्वर, नवनीत, अधिवक्ता सुशील नवनीत, तीजराम सिदार समेत बडी संख्या में ग्रामवासी उपस्थित थे।

विधिक शिविर

ग्राम सरवानी में तालुका विधिक सेवा समिति ने विधिक एवं जागरूकता शिविर का आयोजन किया

सरवानी में लगे शिविर में जानकारी कानून विशेषज्ञ एवं उपस्थित ग्रामीण।

राजीनामा में न किसी की हार होती है न किसी की जीत

न्यायाधीश श्री कश्यप ने बताया कि छोटे-छोटे अपराधों के लिए विधिक सेवा प्राधिकरण प्रत्येक महीने राजीनामा योग्य प्रकरणों के लिए लोक अदालत का आयोजन किया जाता है। ऐसे प्रकरणों को राजीनामा के आधार पर समाप्त किया जाता है। राजीनामा दोनों पक्षों के सहमति एवं आपसी सामंजस्य से होता है इसमें न किसी की हार होती है और न ही किसी की जीत होती है।