--Advertisement--

सराईपाली| 18वर्ष की एक नववधु जिसका 4 माह से मासिक

सराईपाली| 18वर्ष की एक नववधु जिसका 4 माह से मासिक धर्म रुका हुआ था, जिसे परिवार वालों ने गर्भवती समझा, कुछ समय पश्चात...

Dainik Bhaskar

Jan 05, 2018, 02:50 AM IST
सराईपाली| 18वर्ष की एक नववधु जिसका 4 माह से मासिक धर्म रुका हुआ था, जिसे परिवार वालों ने गर्भवती समझा, कुछ समय पश्चात इनका खून बहना चालू हो गया तभी इस नववधु के परिवार वालों ने विभिन्न चिकित्सकों से इस के लिए परामर्श लिया, चिकित्सकों ने बच्चेदानी का कैंसर बताकर इन्हे बच्चादानी निकलवा लेने की सलाह दी।

मरीज के परिवार वालों ने मरीज को गंभीर हालत में भारती हॉस्पिटल सराईपाली मे भर्ती कराया, जहां पर महिला रोग के विशेषज्ञ डॉ कल्पना बरिहा एवं डॉ शुभंकर बर्मन ने इसे मोलर प्रेगनेंसी बताया इस तरह का गर्भ ठहरना अर्थात गर्भ के अंदर प्लेसेन्टा (फूल) में अंगूर के गुच्छे के जैसे रूप ले लेती है और भ्रूण नहीं बनता है जो कि भविष्य में कैंसर के रूप में परिवर्तित हो सकता है।

भारती हॉस्पिटल सराईपाली के स्त्री रोग विशेषज्ञों ने खून की व्यवस्था करवाते हुए बिना बच्चादानी निकाले सफलता पूर्वक इलाज किया। बच्चेदानी का निकालना मरीज के लिए खतरा था अत: गंभीर हालत में भर्ती हुए इस मरीज का सफलता पूर्वक इलाज किया गया एवं मरीज की जान बचाई गई पैसे भी कम लगे और भटकना भी नहीं पड़ा। यह अंचल के लिए उपलब्धि की बात है।

भारती हॉस्पिटल में बच्चेदानी के मोलर प्रेगनेंसी का सफलता पूर्वक इलाज

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..