सराईपाली

--Advertisement--

बिना कांटे के नीबू पेड़ में उगाए फल, हांडी में छेदकर लगाए पौधे

पुटका का भोई परिवार ने पर्यावरण और प्रकृति प्रेम के चलते अलग पहचान बनाई है। अवकाश प्राप्त प्राचार्य एचएल भोई गुरु...

Dainik Bhaskar

Jan 08, 2018, 03:25 AM IST
पुटका का भोई परिवार ने पर्यावरण और प्रकृति प्रेम के चलते अलग पहचान बनाई है। अवकाश प्राप्त प्राचार्य एचएल भोई गुरु गहिरा सहित अनेक पर्यावरण पुरस्कार प्राप्त कर चुके हैं। उनके भतीजे प्रभात भोई जो पैकिन स्कूल में व्याख्याता भी पर्यावरण को सहेजने में जुटे हैं। उन्होंने अपने छोटे से बगीचे में तरह-तरह के फलों और सब्जियां लगाई हैं। जिसमें वे रासायनिक खाद का उपयोग नहीं करते।

उनके बगीचे में बिना कांटे वाले नींबू (फ्रूटी नींबू) के पेड़, गंगाबेर की उन्नत किस्म के साथ आम के विभिन्न प्रजातियां लगाई है। इसमें से एक पेड़ का आम सवा किलो तक होता है। वहीं गार्डनिंग में नवाचार करते हुए हंडियों को छेद कर सजाने वाली पत्तियों वाली प्रजातियों के पौधों के साथ आंवला, अनार, बड़े अमरूद के साथ परेवापाली वैरायटी का कच्चा स्वादी आम भी लगा रखा है। प्रभात भोई बताते है कि पुटका में तीन बड़ी अमरईया है जिसमें 500 से ज्यादा वृक्ष है और 60 से ज्यादा वैरायटी के आम होते हैं। जिनमें गुड़भेली आम, अरसा आम के साथ सुपारी आम, लहसुन आम, लोढ़ा आम जैसी वेरायटियां हैं। गर्मी के दिनों में यह क्षेत्र आम और छांव के लिए जाना जाता है। सब्जियों में मूली, धनियापत्ती, सेमी, गोभी, जितना उन्हें लगाने का शौक है, उतना ही उन्हे लोगों को दिखाने और खिलाने का शौक है।

बिना कांटे के नीबू पेड़ में लगे फल दिखाते हुए भोई, हांडी को छेदकर लगाए पौधे।

X
Click to listen..