सराईपाली

  • Hindi News
  • Chhattisgarh News
  • Saraipali News
  • शहर में घूम रहे भारी वाहनों से बनती है जाम की स्थिति, सुराज में की शिकायत
--Advertisement--

शहर में घूम रहे भारी वाहनों से बनती है जाम की स्थिति, सुराज में की शिकायत

नगर में भारी वाहनों का प्रवेश होने से दिनभर बार-बार जाम लगने के हालात बन रहे हैं। इससे शहर की 20 हजार की आबादी को बेहद...

Dainik Bhaskar

Feb 22, 2018, 03:30 AM IST
शहर में घूम रहे भारी वाहनों से बनती है जाम की स्थिति, सुराज में की शिकायत
नगर में भारी वाहनों का प्रवेश होने से दिनभर बार-बार जाम लगने के हालात बन रहे हैं। इससे शहर की 20 हजार की आबादी को बेहद परेशानी उठाना पड़ रही है। मिल पत्थर चौक, झिलमिला चौक, अग्रसेन चौक, बस स्टैंड चौक जाम की स्थिति बन जाती है।

जिसे पार करने में लोगों को बेहद दिक्कतें होती हैं, वहीं दुर्घटनाओं का भी अंदेशा बना रहता है। इसको लेकर नागरिक कई बार शिकायत करने के बाद भी नगर परिषद और पुलिस प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा है। नगर में लोडिंग वाहन ट्रक, पिकअप, मेटाडोर, टेम्पो, 407 सहित ट्रैक्टर-ट्राली आदि भारी वाहनों की दिनभर रेलमपेल लगी रहती है। जिन्हें रोकने व टोकने वाला कोई नहीं है। ऐसे वाहनों को नगर में सुबह से आना-जाना शुरू होता है, जो देर शाम तक चलता रहता है। इस कारण दिनभर जाम की स्थिति बनी रहती है। इस वजह से आम लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

सराईपाली| सराईपाली शहर में भारी वाहन के प्रतिबंध के बावजूद प्रवेश कर रहे है।

प्रतिबंध के बाद भी शहर में प्रवेश ले रहे भारी वाहन

बायपास बन जाने के बाद भी भारी वाहनो के आवाजाही के कम न होने पर लोक सुराज में रणवीर मेश्राम द्वारा ऑनलाइन आवेदन दिया गया। उसके बाद जिला परिवहन अधिकारी डी तिग्गा ने उड़न दस्ता प्रभारी को पत्र भेजकर उन्हें एनएच 53 में ही जाने कही है।

ये लोडिंग वाहन होते हैं नगर में प्रवेश

नगर के अंदर किराना व्यापारी, बिल्डिंग मटेरियल की दुकानें संचालित है। जिनके लिए हर रोज माल खाली करने के लिए एवं माल लोडिंग करने के लिए दिनभर वाहनों का आना-जाना लगा रहता है। इन वाहनों में 20 से 25 टनों के बड़े ट्रालों, शक्कर एवं सीमेंट बिल्डिंग मटेरियल अथवा गल्ला व्यापारियों के धान, गेहूं, धनिया, चना, मसूर आदि माल भरकर लाया ले जाया जाता है। रेत, ईंट, तार आदि सामान लेकर ट्रैक्टर-ट्राली हर आधे घंटे में नगर में प्रवेश करते हैं। अगर यह वाहन रात 8 बजे से लेकर सुबह 8 बजे तक अपना करें तो नगर लोगाें को जाम से मुक्ति मिल सकती है।

जनप्रतिनिधि भी मौन, नहीं कर रहे कोई पहल

जाम से होने वाली परेशानी किसी से छिपी नहीं है। जनप्रतिनिधि भी लोगों अनजान बने हुए हैं। न तो वाहनों के प्रवेश पर रोक लगवा रहे हैं और न ही वर्षों से चली आ रही इस समस्या का कोई हल निकाल पाए हैं। लोगों का कहना है कि भारी वाहनों के नगर में दिन के समय रोक लगाने की मांग सीएमओ, पुलिस सहित एसडीएम के अलावा नप अध्यक्ष से लेकर विधायक व सांसद से कई बार की जा चुकी है। मगर कोई सुनवाई नहीं हो रही।

X
शहर में घूम रहे भारी वाहनों से बनती है जाम की स्थिति, सुराज में की शिकायत
Click to listen..