--Advertisement--

अस्पताल परिसर में बने भवन का उपयोग नहीं

पुराने शासकीय अस्पताल परिसर में लाखों की लागत से बना भवन बनने से पहले ही विवादों में आकर बंद पड़ा है। बगैर उपयोग के...

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 03:25 AM IST
पुराने शासकीय अस्पताल परिसर में लाखों की लागत से बना भवन बनने से पहले ही विवादों में आकर बंद पड़ा है। बगैर उपयोग के यह भवन जर्जर हो रहा है। इसके लिए जिम्मेदार व्यक्ति की लापरवाही की वजह से शासन का लाखों रुपए बरबाद हो गया।

नगर पालिका के लेखा प्रभारी कृपाराम चौधरी का कहना है कि शासन द्वारा तय जगह पर पीडीएस वितरण के लिए राशन दुकान, गोदाम बनाया गया था, इसमें सोसायटी द्वारा ही सब कार्रवाई की गई थी, कार्य एजेंसी नगर पालिका थी। कितने राशि खर्च की थी इसकी जानकारी उन्हें नहीं है।

भवन के सामने पड़े कबाड़ से आने-जाने में दिक्कत : बीएमओ डॉ. अमृत का कहना है कि पुराने अस्पताल परिसर में बिना स्वीकृति और अनुमति के भवन पालिका द्वारा बनाया जा रहा था, जिस पर विभागीय आपत्ति करने के बाद काम को रोक दिया गया था। भवन बिना उपयोग के ही जर्जर हो रहा है। इसके सामने पड़े कबाड़ और पूरा जंगल उग जाने से लोगों का आना-जाना भी संभव नहीं है।

अस्पताल परिसर में बनाया गया भवन।