सराईपाली

--Advertisement--

महिलाओं ने समस्याएं बताईं तो सीईओ ने कहा- कुचलवा दूंगा

सराईपाली. जनपद पंचायत के सामने धरने पर बैठीं महिलाएं। सराईपाली| दो पंचायत के बीच परेशान हो रहे तेंदूमुड़ी के...

Danik Bhaskar

Jun 07, 2018, 03:30 AM IST
सराईपाली. जनपद पंचायत के सामने धरने पर बैठीं महिलाएं।

सराईपाली| दो पंचायत के बीच परेशान हो रहे तेंदूमुड़ी के ग्रामीणों का आक्रोश भड़क गया। 50 से अधिक महिलाएं सुबह से ही जनपद पंचायत में धरना में बैठ गई। स्थिति उस समय तनावपूर्ण हो गई जब जनपद पंचायत के सीईओ पवन कुमार प्रेमी कार्यालय से निकलकर बाहर जा रहे थे, तब महिलाओं ने उन्हें घेर लिया मांग पूरी होने तक उन्हे रोक के रखने की बात कहीं, जिस पर सीईओ नाराज हो गए और महिलाओं को जेल में भिजवाने और कथित रूप से गाड़ी से कुचल देने की बात कही, इससे महिलाएं भड़क गईं।

दरअसल ग्राम तेंदुमुड़ी अमरकोट पंचायत का आश्रित गांव था, बाद में उसे बदलकर नूनपानी का आश्रित गांव बना दिया गया, जिससे ग्रामीणों को जो मूलभूत सुविधाएं मिलनी चाहिए उसके लिए भटकना पड़ रहा है। उपसरपंच गीताबाई, ग्रामीण मोनिका दास, कौशल्या, मीना, भक्तु, ननकी, चम्पा, श्यामा आदि ने बताया कि जब वे जनपद पंचायत में पानी, प्रधानमंत्री आवास सहित अन्य समस्याओं को लेकर पहुंची थी। इस दौरान सीईओ ने उन्हें जेल भिजवाने और कथित रूप से गाड़ी से कुचलवाने की धमकी दी। महिलाओं ने इसकी लिखित शिकायत एसडीएम सराईपाली से की है। साथ ही कहा कि जब तक महिलाओं का अपमान करने वाले अधिकारी पर कार्रवाई नहीं होगी तब तक वे जनपद पंचायत में अनशन पर बैठी रहेंगी। इधर नगरपालिका नेताप्रतिपक्ष हरदीप सिंग रैना जनपद पंचायत के सभापति विश्वजीत बेहरा ने भी महिलाओं के मांगों का समर्थन किया है और इस तरह महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार करने को गलत कहा। जनपद पंचायत सीईओ पवन कुमार प्रेमी का कहना है कि महिलाओं को उन्होंने जनगणना 2011 में नाम न होने की जानकारी और समझाया लेकिन महिलाएं जबरन उनकी गाड़ी के सामने आ गई। उन्हें समझाकर मैं चला गया, किसी प्रकार की धमकी या दबा देने की बात नहीं हुई है यह बात भ्रामक है, इसे कुछ नेता प्रायोजित कर रहे हैं।

Click to listen..