• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Simga
  • 5वीं के 12 सौ छात्रों को 2 साल बाद नहीं दी मार्कशीट, अब 7वीं में पढ़ रहे
--Advertisement--

5वीं के 12 सौ छात्रों को 2 साल बाद नहीं दी मार्कशीट, अब 7वीं में पढ़ रहे

Simga News - सुहेला| सिमगा ब्लॉक में शिक्षा सत्र 2016 में पांचवीं बोर्ड की परीक्षा देने वाले करीब एक हजार से 12 सौ परीक्षार्थियों...

Dainik Bhaskar

Jul 28, 2018, 03:45 AM IST
5वीं के 12 सौ छात्रों को 2 साल बाद नहीं दी मार्कशीट, अब 7वीं में पढ़ रहे
सुहेला| सिमगा ब्लॉक में शिक्षा सत्र 2016 में पांचवीं बोर्ड की परीक्षा देने वाले करीब एक हजार से 12 सौ परीक्षार्थियों को दो साल गुजरने के बाद भी अंक सूची नहीं दी गई है। जबकि शिक्षा विभाग द्वारा बच्चों को बिना अंकसूची के ही छठवीं कक्षा में प्रवेश दे दिया गया और वे इस साल सातवीं में पढ़ाई करने लगे हैं। इसके विपरीत सत्र 2017-18 में पांचवीं की बोर्ड परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों को अंक सूची दे दी गई है। इतनी बड़ी चूक के बावजूद शिक्षा विभाग के अफसर और कर्मचारी गहरी नींद में हैं। वहीं दूसरी तरफ बिना अंकसूची के छात्रों के अभिभावकों में आक्रोश है। इस संबंध में डीईओ जीआर चंद्राकर ने कहा कि अब तक तो अंकसूची बंट जानी थी, कैसे नहीं बंटी, जानकारी लेता हूं।

घटना की जानकारी इस साल जुलाई के पहले सत्र में ग्राम टेकारी के शाला विकास एवं प्रबंधन समिति की बैठक के दौरान मिली। जब पालकों ने स्कूल के शिक्षकों से उक्त संबंध में जानकारी मांगी। इस पर प्रधान पाठक एमएल ध्रुव सहित शिक्षकों ने कहा कि उनके द्वारा ब्लॉक शिक्षा कार्यालय में कई बार जानकारी दी जा चुकी है पर अब तक अंक सूचियां नहीं मिल पाई हैं।

टेकारी सरपंच प्रतिनिधि जीवन जायसवाल, सुखनंदन नायक सहित शाला विकास एवं प्रबंधन समिति के सदस्यों ने बताया कि वर्तमान में तो बच्चों की पढ़ाई जारी है, लेकिन भविष्य में जन्म प्रमाण-पत्र सहित विभिन्न कार्यों में पांचवीं की अंक सूची को ही आधार माना जाता है। इसके बिना हमें परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है, अनेक बार निवेदन करने के बावजूद मार्कशीट उपलब्ध नहीं कराई जा रही है।

अंकसूचियों में त्रुटि फिर फंड की कमी से नहीं छापी गईं

सिमगा बीईओ एसके गेंदले ने बताया कि सत्र 2016 में ब्लॉक के अनेक स्कूलों के लिए छापी गई अंक सूचियां त्रुटि पूर्ण थीं। बाद में वित्तीय कमी सहित विभिन्न कारणों के चलते अंक सूचियां छपाई नहीं जा सकी थी। जिला शिक्षा कार्यालय से राशि नहीं मिलने पर ब्लॉक शिक्षा कार्यालय के खर्च पर अंक सूचियां छपवाकर भेजा जाएगा।

X
5वीं के 12 सौ छात्रों को 2 साल बाद नहीं दी मार्कशीट, अब 7वीं में पढ़ रहे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..