सिर्री

  • Hindi News
  • Chhattisgarh News
  • Sirri News
  • पंजीयन में साढ़े 7 एकड़ को कर दिया 2 एकड़, अब धान बेचने के लिए भटक रहा किसान
--Advertisement--

पंजीयन में साढ़े 7 एकड़ को कर दिया 2 एकड़, अब धान बेचने के लिए भटक रहा किसान

सिर्री | कुरूद क्षेत्र के ग्राम गातापार अ के किसान नंदकुमार साहू पिता पुनीत राम साहू ने कोड़ेबोड़ के सोसायटी में धान...

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2018, 03:05 AM IST
सिर्री | कुरूद क्षेत्र के ग्राम गातापार अ के किसान नंदकुमार साहू पिता पुनीत राम साहू ने कोड़ेबोड़ के सोसायटी में धान बेचने के लिए पंजीयन करवाया था जिसमें सोसायटी कमिर्यों की गलती से उसके साढ़े 7 एकड़ खेत को 2 एकड़ कर दिया गया। साढ़े 5 एकड़ कम हुए पंजीयन को सुधरवाने के लिए यह किसान दर-दर भटक रहा है, वहीं समर्थन मूल्य पर धान भी नहीं बेच पा रहा है।

नंदकुमार ने बताया कि यह गलती पहली बार नहीं हुई है, बल्कि लगातार तीन सालों से हो रही है। इसके लिए पूरी तरह से समिति के कर्मी ही जिम्मेदार हैं। सोसायटी जाकर शिकायत करने पर कर्मचारी सीधे मुंह बात नहीं करते हैं और जहां शिकायत करना है कर दो कहते हैं। किसान नंदकुमार ने कलेक्टर जनदर्शन में अपनी व्यथा सुनाई है। इसके अलावा एसडीएम, तहसीलदार, विपणन संघ, उपपंजीयक, मंत्री अजय चन्द्राकर व बृजमोहन अग्रवाल को भी आवेदन देकर शिकायत कर चुके हैं, पर पंजीयन में हुई त्रुटि का सुधार नहीं हो पा रहा है।

पिछले साल भी की थी लापरवाही : पीड़ित किसान ने बताया कि वर्ष 2015-16 में भी सोसायटी के कर्मचारियों ने उसके 2 एकड़ रकबे का पंजीयन नहीं किया था, जिससे वह 2 एकड़ रकबे का धान समर्थन मूल्य पर बेचने से वंचित रह गया था। उसने कहा कि लगातार तीन सालों से ऐसी गलती सोसायटी के कर्मचारी कर रहे हैं, जिससे उसे भारी नुकसान हो रहा है। कर्मचारियों की लापरवाही का खामियाजा उसे भुगतना पड़ रहा है। इसके बाद भी कर्मी त्रुटि सुधार के लिए बोलने पर धमकी देते हैं। उन्होंने ऐसे लापरवाह कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई कर पंजीयन की त्रुटि सुधरवाने की मांग कलेक्टर से की है।

3 सालों से लगातार हो रही पंजीयन में त्रुटि

नंदकुमार साहू

कर्ज पटाने की चिंता

पीड़ित किसान ने बताया कि पंजीयन के दौरान रकबे की एंट्री में हुई गलती के कारण अब तक सोसायटी में धान नहीं बेचा है और इधर बैंक ने 58 हजार 411 रुपए की कर्ज वसूली का नोटिस थमा दिया है। उसने बताया कि जिस ऋण पुस्तिका के रकबे की सोसायटी में एंट्री नहीं हुई है, उसी ऋण पुस्तिका के सवा 5 एकड़ रकबे में उसने बैंक से कर्ज ले रखा है।

वास्तव में हुई है त्रुटि

इस मामले में सोसायटी के अध्यक्ष कमलनारायण साहू का कहना है कि वास्तव में किसान के साढ़े 5 एकड़ रकबे का पंजीयन इस साल नहीं हुआ है और इस त्रुटि का खामियाजा उसे भुगतना पड़ रहा है। सॉफ्टवेयर लॉक हो जाने के कारण यह त्रुटि सुधर नहीं पा रही है।

X
Click to listen..