Hindi News »Chhatisgarh »Suhela» बुआई के बाद बारिश की बेरुखी सेे रुकी खेती

बुआई के बाद बारिश की बेरुखी सेे रुकी खेती

लगभग माह भर पूर्व बोए गए धान के पौधे अब 4 से 5 इंच हो चुके हैं परंतु अपेक्षित बारिश नहीं हो पाने के कारण बियासी कार्य...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 13, 2018, 03:30 AM IST

  • बुआई के बाद बारिश की बेरुखी सेे रुकी खेती
    +1और स्लाइड देखें
    लगभग माह भर पूर्व बोए गए धान के पौधे अब 4 से 5 इंच हो चुके हैं परंतु अपेक्षित बारिश नहीं हो पाने के कारण बियासी कार्य अटक जाने से अंचल के किसान चिंतित दिखाई दे रहे हैं।

    ग्राम सिनोधा के किसान महेश राम वर्मा एवं छविराम यादव ने बताया की हल्की-फुल्की बूंदाबांदी होने से बीज अंकुरित हो गए हैं और धान के पौधे भी बढ़कर बीयासी लायक हो चुके हैं, परंतु होने वाली बरसात इतनी कमजोर है की खेतों में पानी रुक ही नहीं पा रहा है जिसके कारण कृषि कार्य आगे नहीं बढ़ पा रहा है। बिलईडबरी के दूजे राम यदू, अश्वनी पाल ने कहा की बादल आते हैं, जाते हैं, हल्की फुहार भी पड़ जाती है, लेकिन अपेक्षित बरसात नहीं होने से चिंता लगी है। जांगड़ा के फेकू ध्रुव एवं रवींद्र वर्मा ने बताया कि सहकारी समिति मे भी उपलब्ध नहीं हो पाने के बाद बड़ी मशक्कत से बीज की व्यवस्था कर खेतों को पाट सके हैं, हालांकि बरसात होने की पूरी उम्मीद है फिर भी मन में आशंका है।

    गौरतलब है कि 15 दिन पूर्व हुए प्री मानसून के बरसात के बाद बारिश ने जिस प्रकार की अनियमितता दिखाई है उससे कृषकों में बेचैनी है और पहले जिस निश्चिंतता के साथ बारिश का मौसम आते ही कृषि कार्य में जुट जाते थे। आज वह दिखाई नहीं दे रहा, हालांकि साधन संपन्न कृषि पंप वाले कृषक गण कहीं-कहीं रोपाई कराते दिख जाते हैं परंतु असिंचित खेतों में चलने पर आज भी पैरों में कीचड़ नहीं लग पा रहा है। भले ही गांवों की गलियों व कच्चे पहुंच मार्गों मे कीचड़ पानी के कारण चल पाना मुहाल है।

    सुहेला. सूखे खेत में बढ़ रहे धान के पौधों को देखता किसान।

    धान का 200 समर्थन मूल्य बढ़ाने से किसान संतुष्ट नहीं

    पाण्डुका| राज्य सरकार द्वारा 200 रुपए धान का समर्थन मूल्य बढ़ाने से किसान संतुष्ट नहीं हैं। भारतीय किसान संघ जिला गरियाबंद के प्रचार प्रमुख गोविंद तिवारी का कहना है कि किसानों को समर्थन मूल्य 2100 रुपए व बोनस 300 रुपए देने का वादा भाजपा सरकार ने किया था, जो आज तक नहीं मिला। उन्होंने कहा धान का मूल्य कम होने से कृषि के प्रति किसानों की रुचि धीरे-धीरे कम हो रही है।

    मांगने पर भी नहीं मिले शिक्षक, 16 को घुटकेल स्कूल में ग्रामीण लगा देंगे ताला

    धमतरी | जिले के अंतिम छोर पर बसे गांव घुटकेल में संचालित शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल में शिक्षकों की कमी से परेशान पालक अब आंदोलन करने मजबूर हो गए हैं। 4 साल से शिक्षा समिति, ग्रामीण और पालक यहां विज्ञान, वाणिज्य, संस्कृत विषय के शिक्षकों की मांग रहे हैं। बीते 11 जून को भी जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर 10 दिन में व्यवस्था करने का अल्टीमेटम दिया था। अब तक प्रशासन व जिला शिक्षा विभाग ने यहां शिक्षकों की व्यवस्था नहीं की है। बुधवार को शिक्षा समिति की बैठक हुई, जिसमें सर्वसम्मति से 16 जुलाई को स्कूल में ताला लगाकर आंदोलन शुरू करने का निर्णय लिया गया।

    शिक्षा समिति अध्यक्ष व सरपंच विकास मरकाम, उपाध्यक्ष गोरख साहू, बोरई सरपंच सुरेश समरथ, मैनपुर सरपंच दुर्योधन नेताम, लिखमा सरपंच अमरौतिन नागवंशी ने कहा कि घुटकेल हायर सेकंडरी स्कूल में सिर्फ 7 शिक्षक हैं, दर्ज संख्या 300 है। शिक्षकों की पूर्ति के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नगरी आगमन पर भी आवेदन दे चुके। लोकसुराज, जिला प्रशासन, शिक्षा विभाग को भी आवेदन कर चुके, पर समस्या पर किसी ने ध्यान दिया, इसलिए अब आंदोलन करना पड़ रहा है।

    पालक समिति की आज बैठक : घुटकेल हायर सेकंडरी स्कूल में ग्राम पंचायत मैनपुर, बोरई, लिखमा और घुटकेल के बच्चे पढ़ने आते हैं। 5-7 किमी के आसपास दूसरा हायर सेकंडरी स्कूल नहीं है। शिक्षा समिति की बैठक के बाद अब 12 जुलाई को पालक समिति की भी बैठक रखी गई है।

    घुटकेल स्कूल में शिक्षा समिति की बैठक में स्कूल में ताला लगाने का निर्णय हुआ।

    बोर्ड का रिजल्ट 50% से कम

    शिक्षा समिति के सदस्यों ने बताया कि शिक्षकों की कमी के कारण पढ़ाई में बच्चे कमजोर हो रहे हैं। लोकल परीक्षा सहित बोर्ड में भी रिजल्ट खराब आ रहा है। इस साल 10वीं, 12वीं का रिजल्ट 50 प्रतिशत से कम है।

    दो विद्या मितानिनें भेजी हैं

    डीईओ पीकेएस बघेल ने कहा कि घुटकेल में शिक्षकों की पूर्ति के लिए विद्या मितानिन (वैकल्पिक शिक्षक) भेजी हैं। फिर से मांग हो रही है, तो शासन को उनकी मांगों से अवगत कराएंगे।

  • बुआई के बाद बारिश की बेरुखी सेे रुकी खेती
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Suhela

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×