Hindi News »Chhatisgarh »Sukma» सरकारी शादी के लिए सामग्री की खरीदी में सवा करोड़ की गड़बड़ी का आरोप

सरकारी शादी के लिए सामग्री की खरीदी में सवा करोड़ की गड़बड़ी का आरोप

जगदलपुर | मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत जिले में मार्च में होने वाली एक हजार जोड़ों की सरकारी शादी के लिए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 06, 2018, 03:25 AM IST

जगदलपुर | मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत जिले में मार्च में होने वाली एक हजार जोड़ों की सरकारी शादी के लिए सामग्री की खरीदी में महिला बाल विकास विभाग के अफसरों पर सवा करोड़ की गड़बड़ी करने के आरोप भारतीय राष्ट्रीय सद्भावना कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष संजीव शर्मा ने लगाए हैं। उन्होंने सोमवार को पत्रवार्ता में कहा कि जेम पोर्टल की अनदेखी कर महिला बाल विकास विभाग ने टेंडर जारी किया, वहीं दूसरी ओर स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप और विधायक संतोष बाफना को लाभ पहुंचाने के लिए कई निविदाकर्ताओं पर अनावश्यक दबाव बनाया है। इसके चलते कई व्यापारी निविदा से बाहर हो गए।

संजीव शर्मा के मुताबिक सुकमा और दंतेवाड़ा जिले में जिला प्रशासन और महिला बाल विकास विभाग ने जेम पोर्टल के सहारे एक हजार जोड़ों के लिए सामान की खरीदी में अधिकारियों ने अनियमितता बरती है। कलेक्टर धनंजय देवांगन ने भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया। शादी की तैयारी विभाग सालभर से कर रहा है, लेकिन शादी के लिए खरीदे जाने वाले सामानों के लिए टेंडर आनन-फानन में 4 फरवरी को जारी किया। जिस ठेकेदार को सामान खरीदने का टेंडर मिला है, उसने अरिहंत, चंदन और पदमावती नाम की फर्म से अलग-अलग टेंडर जारी किया था। जिस फर्म को सामानों की सप्लाई का जिम्मा सौंपा गया है, वह किस तरह का सामान सप्लाई कर रहा है। इसकी जांच भी नहीं की गई है। उन्होंने कलेक्टर से मांग की है कि इस टेंडर को निरस्त किया जाए और पूरी प्रक्रिया नए सिरे से शुरू की जाए।

2 महीने जेम पोर्टल बंद था, इसलिए खुली निविदा जारी की

महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी शैल ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री कन्यादान विवाह योजना को लेकर जिला स्तर पर जिला स्तरीय क्रय समिति बनाई गई है। इसके अध्यक्ष कलेक्टर धनंजय देवांगन हैं। इस साल होने वाली सरकारी शादी के लिए सामग्री की खरीदी से लेकर अन्य निर्णय उनके द्वारा ही लिए गए हैं। जेम पोर्टल के माध्यम से खरीदी करने की कोशिश की गई थी, लेकिन दो महीने तक पोर्टल के बंद रहने और बाद में खुलने के बाद इसमें जो समान चाहिए था, वह मौजूद नहीं था, इसलिए खुली निविदा जारी की गई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sukma

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×