--Advertisement--

ग्रामीणों ने दो जिलों की सीमा पर जंगल देवी की पूजा की

नकुलनार | दंतेवाड़ा और सुकमा जिले के सरहद गुफेड़ी गांव में तीन साल में लगने वाला सीमा जात्रा इस बार आठ साल बाद गुरुवार...

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2018, 03:30 AM IST
नकुलनार | दंतेवाड़ा और सुकमा जिले के सरहद गुफेड़ी गांव में तीन साल में लगने वाला सीमा जात्रा इस बार आठ साल बाद गुरुवार से लगा। इस मौके पर ग्रामीणों ने लोगों की खुशहाली की कामना कर जंगलों के बीच स्थित जंगल देवी की की पूजा की। तीन दिनों तक सरहद में लगे इस जात्रा में कुआकोंडा के 84 गांव के मांझी मुखियाओं सहित दंतेवाड़ा ब्लाॅक के गदापाल, तोयलंका, कटेकल्याण के मोखपाल केे लोग भी शामिल हुए। इस दौरान ग्रामीणों ने सालों से चली आ रही परंपरा का पालन करते हुए जिंदा मुर्गा छोड़े। मेल की शुरुआत ग्रामीण माता गगना दई मंदिर में पूजा कर गुफेड़ी गांव में की गई। इस सीमा जात्रा के लिए ग्रामीण कुआकोंडा से 50 किलोमीटर दूर गूफेड़ी के जंगलों तक पैदल यात्रा किए।

कुआकोंडा 84 गांव के मांझी लक्ष्मीनाथ ने बताया कि हर तीन वर्ष में इस सीमा जात्रा का आयोजन किया जा रहा था, लेकिन पिछले कुछ सालों से क्षेत्र का माहौल ठीक नहीं होने से यह सीमा जात्रा आठ साल के बाद हुई है। जात्रा समाप्त होने पर शनिवार की देर शाम ग्रामीण वापस अपने गांवों में पहुंचे।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..