Hindi News »Chhatisgarh »Sukma» मुखबिरी का आरोप लगा नक्सलियों ने परिवार को गांव से बेदखल किया, दो युवकों की पिटाई भी की

मुखबिरी का आरोप लगा नक्सलियों ने परिवार को गांव से बेदखल किया, दो युवकों की पिटाई भी की

नक्सलियों के फरमान के बाद पोलमपल्ली के पालामड़गू गांव के एक परिवार ने गांव छोड़ दोरनापाल में शरण ली है। मामला...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 24, 2018, 05:10 AM IST

नक्सलियों के फरमान के बाद पोलमपल्ली के पालामड़गू गांव के एक परिवार ने गांव छोड़ दोरनापाल में शरण ली है। मामला गुरूवार का बताया गया है जब पालामड़गु गांव के अपने घर में कवासी कोसा के दो पुत्र शंकर और राजू मौजूद थे। अचानक पहुंचे नक्सली उसके दोनों पुत्रों को पास के जंगल में ले गए और दोनों की जमकर पिटाई की, इस दौरान कई ग्रामीण मौजूद थे। उनके सामने ही युवकों को पीटा गया। उनके परिवार पर मुखबिरी करने का आरोप है। इसके बाद नक्सलियों ने बंदूक में गोलियां लोड की, जिससे लग रहा था कि वे दोनों को मौत के घाट उतारने की तैयारी में थे। नजाकत को भांप पर मौके पर मौजूद ग्रामीणों व परिजनों ने नक्सलियों से आग्रह किया तब जाकर दोनों युवकों छोड़ा गया, लेकिन पूरे परिवार को गांव छोड़ने का फरमान जारी कर दिया।

युवकों को रिहा करने से पहले नक्सली कमांडर पाड़ा आपू ने 25 मार्च तक कवासी कोसा के परिवार को गांव छोड़ने की चेतावनी दी है। इसके बाद शुक्रवार से ही ट्रैक्टरों के माध्यम से गांव से सामान ले जाने में कवासी परिवार जुट गया है। नक्सलियों ने परिवार पर पुलिस मुखबिरी करने का आरोप लगाया है जिसकी वजह से नक्सलियों ने उक्त परिवारों को गांव छोड़ने का फ़रमान जारी किया है।

गौरतलब है की परिवार के मुखिया कवासी कोसा पर लंबे समय से नक्सलियों की मदद करने का आरोप लगता रहा है और इलाके में कवासी कोसा के नक्सलियों से भी बेहतर संबंध होने की चर्चा भी होती रही है । बावजूद इसके नक्सलियों ने उक्त परिवार के खिलाफ फरमान जारी किया है जिसकी इलाके में जमकर चर्चा है।

दोरनापाल. नक्सली फरमान के बाद पालामड़गू से गांव खाली कर ट्रैक्टर से सामान लाता कवासी कोसा का परिवार

इधर... सुकमा में मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने युवक की डंडे से पीटकर हत्या कर दी

सुकमा |
इधर विवाह समारोह में शिरकत करने आए एक 25 वर्षीय युवक की शुक्रवार को नक्सलियों ने मुखबिरी के आरोप में डंडे से पीट-पीटकर हत्या कर दी । पुलिस के मुताबिक युवक पहले नक्सलियों का साथी था। गोलापल्ली के मुंदरीपारा निवासी रविंद्र उइके गोलापल्ली में ही एक विवाह समारोह में गया था, जहां दोपहर को अचानक नक्सली पहुंचे और युवक को शादी समारोह से बाहर ले गए। इसके बाद उन्होंने उसकी डंडे से पीटकर हत्या कर दी। नक्सलियों ने युवक के शव के पास पर्चा भी छोड़ा है जिसमें उस पर गोलापल्ली और आसपास के इलाकों की खबर पुलिस तक पहुंचाने का आरोप लगाया गया है। मृतक के शव को पुलिस थाने लाया गया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sukma

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×