• Home
  • Chhattisgarh News
  • Sukma
  • थोड़ी देर के लिए पीछे हटे थे नक्सली फिर पहुंचे और एमपीवी में लगाई आग
--Advertisement--

थोड़ी देर के लिए पीछे हटे थे नक्सली फिर पहुंचे और एमपीवी में लगाई आग

भास्कर न्यूज | दोरनापाल/सुकमा किस्टाराम में सीआरपीएफ जवानों से भरी एमपीवी को ब्लास्ट करने के बाद नक्सली डरे...

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 06:35 AM IST
भास्कर न्यूज | दोरनापाल/सुकमा

किस्टाराम में सीआरपीएफ जवानों से भरी एमपीवी को ब्लास्ट करने के बाद नक्सली डरे नहीं हैं। ऐसा दावा किया जा रहा है कि ब्लास्ट के कुछ देर बाद नक्सली थोड़ी देर के लिए पीछे हटे थे लेकिन उन्होंने इस पूरे इलाके को छोड़ा नहीं था। जवानों के घटनास्थल से हटते ही नक्सली दोबारा मौके पर पहुंचे और एमपीवी को आग के हवाले कर दिया। बताया जा रहा है कि रात में नक्सलियों ने एमपीवी के आसपास सर्चिंग भी की है।

हालांकि इस मामले में फोर्स की ओर से कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है। बुधवार की सुबह जब घटनास्थल पर मीडिया कर्मियों का दल पहुंचा तब तक एमपीवी में से धुंआ उठ रहा था। ऐसे में माना जा रहा है कि रात में नक्सली दोबारा यहां पहुंचे थे। यह पूरा इलाका नक्सलियों का गढ़ माना जाता है और इनका कोर क्षेत्र है। यहां इनकी पकड़ सबसे ज्यादा मजबूत है। इससे पहले भी 18 फरवरी को भेज्जी के एलाड़मड़गू में हमले के दौरान एक पोकलेन और पांच ट्रैक्‍टर को आग के हवाले किया था। नक्‍सली रात में दोबारा आए और फिर चार टैक्‍टर को आग के हवाले कर दिया। वहीं पोकलेन मशीन में लकड़ी डालकर आगजनी की।

संबंधित खबर पेज 15 पर भी

ब्लास्ट के कुछ देर बाद तक इलाके को छोड़ा नहीं था नक्सलियों ने

नक्सलियों की ओर से दागे गए राकेट लांचर को दिखाता जवान।

नक्सलियों ने 15 लांचर दागे जवानों पर लेिकन उन तक पहुंचे नहीं

किस्टारम में एमपीवी को उड़ाने के बाद नक्सलियों ने जवानों पर राकेट लांचर भी दागे। नक्सलियों ने एक के बाद एक 15 लांचर जवानों पर छोड़े। इनमें से 12 फूट गए लेकिन ये जवानों तक नहीं पहुंचे। इस मामले में खास बात यह है कि जो राकेट लांचर जवानों तक पहुंचे वे फूट ही नहीं पाए। एसडीओपी राम बरमन ने बताया कि नक्सलियों के देशी लांचर हूबहू कंपनी मेड लांचर जैसे ही हैं लेकिन खुशकिस्मती रही कि ये जवानों तक पहुंचने के बाद भी नहीं फूटे। इसके अलावा जवानों ने किस्‍टाराम से पालोदी के बीच नक्सलियों के द्वारा सात आईईडी लगाई गई थी। इनमें से सिर्फ एक में ही नक्सली ब्लास्ट कर पाए बाकी 6 आईईडी को जवानों ने बरामद कर लिया है। जवानों ने मंगलवार को चार और बुधवार को दो आईईडी बरामद कर मौके पर ही निष्क्रिय कर दिया।