• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Surajpur
  • मध्यस्थता का सहारा लेने से न्यायालयोेंं में कम होगी प्रकरणांे की संख्या
--Advertisement--

मध्यस्थता का सहारा लेने से न्यायालयोेंं में कम होगी प्रकरणांे की संख्या

Dainik Bhaskar

Feb 18, 2018, 04:55 AM IST

Surajpur News - अम्बिकापुर| छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार दीपक कुमार तिवारी के मुख्य आतिथ्य में शनिवार को राजमोहिनी देवी...

मध्यस्थता का सहारा लेने से न्यायालयोेंं में कम होगी प्रकरणांे की संख्या
अम्बिकापुर| छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार दीपक कुमार तिवारी के मुख्य आतिथ्य में शनिवार को राजमोहिनी देवी कृषि महाविद्यालय के सभाकक्ष में मध्यस्थता रिफरल जजों की भूमिका तथा इसे प्रभावी बनाने पर संभाग स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। छत्तीसगढ़ राज्य न्यायिक अकादमी के निर्देशानुसार आयोजित कार्यशाला के मुख्य अतिथि श्री तिवारी ने कहा कि जनसामान्य को मध्यस्थता का सहारा लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि लोगों द्वारा मध्यस्थता का उपयोग करने से न्यायालयों में प्रकरणों की संख्या में कमी आएगी व पक्षकारों को जल्दी व सस्ता न्याय मिल सकेगा। तिवारी ने रिफरल जजों की भूमिका पर जानकारी देते हुए मध्यस्थता को और प्रभावी बनाने के उपाय बताए। कार्यशाला में सरगुजा संभाग अंतर्गत सरगुजा, कोरिया, जशपुर, सूरजपुर, बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के न्यायिक अधिकारी शामिल हुए। कार्यशाला में बताया कि मध्यस्थता एक वैकल्पिक विवाद समाधान प्रक्रम है जिसमें पक्षकार किसी तीसरे व्यक्ति के हस्तक्षेप के माध्यम से तथा न्यायालय का सहारा लिए बिना अपने विवादांे का निपटारा करवाता है।

X
मध्यस्थता का सहारा लेने से न्यायालयोेंं में कम होगी प्रकरणांे की संख्या
Astrology

Recommended

Click to listen..