• Home
  • Chhattisgarh News
  • Surajpur News
  • छात्राओं की मौत मामले में वन अमले पर कार्रवाई की मांग को लेकर थाना घेरने की कोशिश
--Advertisement--

छात्राओं की मौत मामले में वन अमले पर कार्रवाई की मांग को लेकर थाना घेरने की कोशिश

डीएफओ और रेंजर के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर थाने का घेराव करने निकले ग्रामीण। भास्कर संवाददाता|बिश्रामपुर...

Danik Bhaskar | Apr 26, 2018, 03:45 AM IST
डीएफओ और रेंजर के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर थाने का घेराव करने निकले ग्रामीण।

भास्कर संवाददाता|बिश्रामपुर

एक अप्रैल को जयनगर थाना के वीरपुर ग्राम में वन विभाग द्वारा सुतिया नाला पर बनाए गए स्टाप डेम में नहाने के दौरान दो छात्राओं की डूबने से मौत हो गई थी। इनमें पिंकी राजवाड़े 13 वर्ष व पुष्पा प्रजापति 12 वर्ष हैं।

मामले में डीएफओ व रेंजर के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करने की मांग को लेकर वीरपुर के ग्रामीण दोपहर डेढ़ बजे जयनगर बाजार में रैली निकाल थाने पहुंचे। ग्रामीण कांग्रेसी नेता छतरलाल सांवरे की अगुवाई में घेराव करने निकले। यहां पुलिस बल की कड़ी चौकसी के बाद ग्रामीण थाने का घेराव तो नहीं कर सके लेकिन थाने के बाहर वन अमले पर कार्रवाई व प्रभावित परिवार के सदस्यों को 25-25 लाख मुआवजे की मांग को लेकर नारेबाजी की। कुछ मिनट के प्रदर्शन के उपरांत प्रशासन की ओर से आंदोलनकारियों से चर्चा के लिए पहुंचे नायब तहसीलदार पिलखा उमेश कुशवाहा व एसडीओपी सूरजपुर मनोज ध्रुव ने ग्रामीणों से चर्चा की। नायब तहसीलदार उमेश कुशवाहा ने आंदोलनकारियों को बताया कि प्राकृतिक आपदा सहायता राशि के रुप में चार चार लाख रुपए की राशि स्वीकृति कलेक्टर ने कर दी है। इसका चेक भी जारी कर दिया गया। ग्रामीणों के द्वारा दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई के सवाल पर एसडीओपी मनोज ध्रुव ने बताया कि मर्ग जांच जारी है। अगर दोष सिद्ध होता है तो संबंधित के खिलाफ अवश्य कार्रवाई होगी। नायब तहसीलदार ने बताया कि कलेक्टर ने भी फारेस्ट को उक्त क्षेत्र को बैरीकेडिंग लगाने सहित प्रतिबंधित क्षेत्र संबंधी सूचना फलक लगाने निर्देशित किया। मौके पर मौजूद अधिकारियों ने मृत छात्राओं के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त कर उन्हें आवश्यक कार्रवाई का भरोसा दिलाया तब आंदोलनकारी संतुष्ट हो घर लौट गए। प्रदर्शन के दौरान सरपंच लीलावती, संजू सिंह, घरभरन, रामाराम, संतोष प्रजापति, फुलेश्वरी शांति प्रजापति, ओमप्रकाश, मेवालाल, श्यामलाल, होलसाय, जगधारी मौजूद थे।