• Home
  • Chhattisgarh News
  • Surajpur News
  • ट्रांसफाॅर्मर खराब होने से कई गांव अंधेरे मेंे, पखवाड़े भर बाद भी नहीं आई बिजली
--Advertisement--

ट्रांसफाॅर्मर खराब होने से कई गांव अंधेरे मेंे, पखवाड़े भर बाद भी नहीं आई बिजली

भास्कर संवाददाता|बिश्रामपुर पखवाड़े भर से क्षेत्र के करीब आधा दर्जन गांवों के लोग विद्युत ट्रांसफार्मर खराब...

Danik Bhaskar | May 23, 2018, 04:40 AM IST
भास्कर संवाददाता|बिश्रामपुर

पखवाड़े भर से क्षेत्र के करीब आधा दर्जन गांवों के लोग विद्युत ट्रांसफार्मर खराब होने की वजह से ढिबरी युग में जीवन यापन कर रहे हैं। हाथी प्रभावित हरिपुर में लोग विद्युत व्यवस्था पखवाड़े भर बाद भी बहान न होने से अब वे गांव से पलायन करने की तैयारी कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार बिश्रामपुर विद्युत वितरण उपकेंद्र अंतर्गत ग्राम रमेशपुर, करवां, हरिपुर व अन्य कई गांव में पिछले दिनों ट्रांसफार्मर में आई तकनीकी खराबी से प्रभावित गांवों के लोग ढिबरी युग में पहुंच गए है। ग्रामीणों का कहना है कि ट्रांसफार्मर बदलवाने के लिए कई दिनों से कार्यालय का चक्कर काट रहे हैं लेकिन अब तक केवल आवश्वासन पर ही काम चला रहे हैं। विद्युत व्यवस्था ठप होने से जहां एक ओर भीषण गर्मी में लोगों को पेयजल की गंभीर समस्या से जूझना पड़ रहा है वहीं दूसरी ओर सिंचाई के अभाव में कृषि कार्य भी प्रभावित हो रहा है। करवां गांव में पिछले 6 दिनों से बिजली ठप है। आलम यह है कि यहां विद्युत व्यवस्था ठप होने से गांव में स्थित गौशाला में रहने वाले करीब 140 मवेशियों को पानी की परेशानी से जूझना पड़ रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि व्यवस्था में सुधार करा ट्रांसफार्मर बदलवाए जाने हेतु कई बार सूरजपुर व बिश्रामपुर कार्यालय का चक्कर काट चुके हैं लेकिन अब तक केवल आश्वासन ही मिला है। कई गांवों में ब्लैक आउट से जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि छतरलाल सांवरे भी विद्युत कार्यालय पहुंच व्यवस्था जल्द बहाल कराए जाने की मांग की है।

हाथी प्रभावित इलाका फिर भी नहीं सुधर नहीं बिजली

ग्राम हरिपुर व आसपास के क्षेत्र में करीब 50 हाथियों का दल पिछले करीब 3 तीन माह से विचरण कर आतंक मचा रहे हैं। बिजली व्यवस्था गांव में पखवाड़े भर से ठप होने से ग्रामीणों को अंधेरे की वजह से हाथियों से हमेशा किसी अनहोनी का भय बना रहता है। हाथियों के आतंक व पखवाड़े भर से विद्युत व्यवस्था ठप होने के कारण यहां के लोग अब पलायन करने को विवश हो रहे हैं।