मां-बेटे को देखने कोरिया से पहुंचे विभाग के कर्मचारी

Ambikapur News - लाइलाज बीमारी एचआईवी (एक्वार्ड इम्युनोडेफिशिएंशी सिंड्रोम) से पीड़ित होने से कमजोर हो चुकी महिला व उसके दो वर्षीय...

Nov 11, 2019, 06:25 AM IST
लाइलाज बीमारी एचआईवी (एक्वार्ड इम्युनोडेफिशिएंशी सिंड्रोम) से पीड़ित होने से कमजोर हो चुकी महिला व उसके दो वर्षीय पुत्र की देखरेख के लिए कोरिया जिले से महिला एवं बाल विकास विभाग के कर्मचारी रविवार को मेडिकल काॅलेज अस्पताल पहुंचे।

भास्कर ने रविवार के अंक में महिला की स्थिति को लेकर खबर प्रकाशित की थी। कोरिया जिले के सखी सेंटर से महिला व उसके दो वर्षीय बेटे को मेडिकल काॅलेज अस्पताल में 30 अक्टूबर को भर्ती करा दिया गया था लेकिन देखरेख के लिए कोई नहीं था। अस्पताल के वार्ड में रविवार को मां बेटे काफी दयनीय स्थिति में मिले थे। बरहाल खबर के बाद विभाग ने इसे गंभीरता से लिया और दोनों की देखरेख के लिए अपने दो कर्मचारियों को अंबिकापुर अस्पताल भेजा। यहां डाक्टरों ने उसे शुक्रवार को ही डिस्चार्ज भी कर दिया था लेकिन कर्मचारियों ने दोनों को दोबारा यहां भर्ती कराया। दोनों को गर्म कपड़े खरीद कर दिए ताकि ठंड से बच सके। महिला शारीरिक रूप से इतनी कमजोर हो गई है कि वह दो कदम चलने के बाद ही थक जाती है। इसलिए वह अपने बेटे को उठा नहीं पाती। उधर मामले को लेकर अंबिकापुर सखी सेंटर की प्रभारी सुमन द्विवेदी भी अस्पताल पहुंची थी। उन्होंने बताया कि कोरिया से ही महिला व उसके बेटे को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और इसके बारे में उन्हें नहीं बताया गया था। शनिवार को कोरिया से सूचना मिलने पर वे महिला को देखने के लिए अस्पताल पहुंचीं।

खबर का असर

महिला का चल रहा इलाज।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना