रीकोकला में धान खरीदी केंद्र खोलने की मांग को लेकर किसानों का प्रदर्शन जारी

Anchalik News - रीकोकला में धान खरीदी केंद्र खोलने की मांग को लेकर किसानों का आंदोलन मंगलवार को 7वें दिन भी जारी रहा। किसानों ने...

Dec 04, 2019, 07:56 AM IST
रीकोकला में धान खरीदी केंद्र खोलने की मांग को लेकर किसानों का आंदोलन मंगलवार को 7वें दिन भी जारी रहा। किसानों ने कहा है कि शासन स्तर से जब तक आदेश नहीं पहुंच जाता तब तक आंदोलन जारी रहेगा। बलौदाबाजार जिले के कसडोल विकासखंड अंतर्गत सीमावर्ती ग्राम रीकोकला में धान खरीदी केंद्र खोले जाने की मांग को लेकर किसानों का आंदोलन तेज होता जा रहा है। विरोध में क्षेत्र का कोई भी किसान बया केंद्र में धान बेचने नहीं पहुंच रहा है जिसके कारण धान खरीदी प्रभावित है।

इस आंदोलन में बड़ी तादाद में क्षेत्र के किसान शामिल होते जा रहे हैं तथा शासन से जब तक आदेश नहीं पहुंच जाता तब तक आंदोलन जारी रखे जाने की बात कही जा रही है। ज्ञातव्य हो कि पूर्व में ही शासन स्तर पर रीकोकाला में धान खरीदी केंद्र खोले जाने की मांग को लेकर पत्र व्यवहार किया गया था तथा विभागीय स्तर पर मौखिक सहमति भी मिली थी कि रीकोकला में अतिशीघ्र धान खरीदी केंद्र खोला जाएगा किंतु शासन से जारी सूची में रीकोकला का नाम नहीं होने के कारण किसानों ने 1 दिसंबर से प्रारंभ धान खरीदी का विरोध शुरू कर दिया। इस वजह से धान खरीदी केंद्र बया में कोई भी किसान धान बेचने नहीं जा रहा है।

क्षेत्र के सैकड़ों किसान आंदोलन स्थल पर पहुंचकर नियमित रूप से आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं। सोमवार को धरना प्रदर्शन में समिति अध्यक्ष संतोष दीवान के अलावा अमरध्वज यादव, पुरूषोत्तम प्रधान, राजीव अवस्थी (उपसरपंच रीकोकला), रतनसिंह डड़सेना, भगवानसिंह ठाकुर, रामचरन डड़सेना, देवानंद नायक, रूपसिंह डड़सेना सरजू, विश्राम साहू सहित कई जनप्रतिनिधि शामिल थे।

कसडोल. रीकोकला में खरीदी केंद्र खोलने की मांग को लेकर धरना जारी।

कसडोल. बया केंद्र में एक भी किसान धान बेचने नहीं पहुंचा।

खरीदी केंद्रों में पहुंचने लगे पुराने बारदाने कुसमी को 5 हजार दिए, खरीदी आज से

पलारी| पुराने बारदाने नही‌ं होने से कुसमी खरीदी केंद्र में मंगलवार को खरीदी बंद हो गई थी तो वहीं करीब 50 खरीदी केंद्रों में बारदाना खत्म होने से खरीदी बंद होने को थी। संबंधित खबर भास्कर में मंगलवार को प्रमुखता से प्रकाशित होते ही कलेक्टर कार्तिकेय गोयल ने सुबह से अफसरों की क्लास लेनी शुरू कर दी। उन्होंने मिलर्स व संबंधित अफसरों को तत्काल 40 प्रतिशत पुराने बारदाने समितियों में पहुंचाने को कहा। इसके बाद कुसमी में दोपहर 12 बजे ही 5 हजार पुराने बारदाने सोनारदेवरी से भेजे गए, वहीं करीब 1 लाख 25 हजार बारदाने रायपुर से सुबह ही गाड़ियों से निकलने की बात कही गई।

कुसमी के समिति प्रबंधक रामनाथ साहू ने भी पुष्टि की है कि 5 हजार पुराने बारदाने दोपहर में पहुंच गए हैं, अब बुधवार से खरीदी प्रांरभ हो जाएगी। दतान, पलारी, ससहा, कुसमी आदि में पुराने बारदाने पहुंचने की खबर है। ज्ञात हो कि पलारी ब्लॉक के देवसुंदरा, ज़ारा ,वटगन, बलौदी, रोहांसी सीतापार, कोसमंदी, जर्वे, गाड़ाभाठा, गिर्रा, सिसदेवरी, भवानीपुर, तेलासी, सलौनी, छेरकापुर, सरसेनी, गुमा, घसियाभाठा, गिधपुरी, कोनारी, ओडान, चरौदा, लक्सनपुर, बोहारडीह आदि खरीदी केंद्रों में पुराने बारदाने मिलर्स द्वारा नहीं छोड़ने से खरीदी प्रभावित होने वाली थी। नियमत: मिलिंग के बाद 40 प्रतिशत बारदाने मिलर्स समितियों में पहुंचाते हैं। डीएमओ जसवीर बघेल बलौदाबाजार का कहना है कि मिलर्स की हड़ताल की वजह से बारदाने नहीं पहुंच पाए थे, उपभोक्ता दुकानों से पुराने बारदाने उठाकर खरीदी केंद्रों में भेजे गए हैं।

 

पलारी. मंगलवार को कुसमी खरीदी केंद्र में पहुंच गए पुराने बारदाने।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना