ममता चंद्राकर के गीत तोर मन कइसे लागे राजा... पर झूमे दर्शक, रितु ने पंडवानी को जीवंत किया

Anchalik News - छत्तीसगढ़ की प्रसिद्ध लोक कलाकार पद्मश्री ममता चंद्राकर ने अपने चिर-परिचित अंदाज में चिन्हारी गीत कार्यक्रम...

Feb 12, 2020, 07:30 AM IST
Nayapara Rajim News - chhattisgarh news mamta chandrakar39s song toor man kise lage raja onlookers ritu brought pandwani alive

छत्तीसगढ़ की प्रसिद्ध लोक कलाकार पद्मश्री ममता चंद्राकर ने अपने चिर-परिचित अंदाज में चिन्हारी गीत कार्यक्रम प्रस्तुत कर लोगों को झूमने के लिए मजबूर कर दिया। तोर मन कइसे लागे राजा... गीत ने खूब तालियां बटोरी।

राजिम माघी पुन्नी मेला के मुख्य मंच पर दूसरे सोमवार को दिन सांस्कृतिक कार्यक्रम में पंडवानी, भजन, राऊत नाचा, लोकमंच आदि की प्रस्तुति दी गई। पद्मश्री ममता ने विवाह गीत के माध्यम से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इसी के साथ अगली प्रस्तुति कर्मा सुने बर आबे... जिंदगी के नईये ठिकाने लहर गंगा ले लेबे जोड़ी... तोर मन कइसे लागे राजा.... परदेशी के मया बिन चारे... आम तरी डोला उतार ले... तोर मया के बोली खातिर.... मैं होंगेव दीवानी रे के साथ... आदि गीतों ने सभा बांधी। अंत में गौरा-गौरी गीत की शानदार प्रस्तुति दी। कार्यक्रम के दौरान दर्शकदीर्घा में उपस्थित महिला झूमने लगे। सांस्कृतिक कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ की गौरवशाली पंडवानी गायन रितु वर्मा ने महाभारत युद्ध के समय भीम द्वारा दुर्योधन की जांघ उखाड़ने के प्रसंग पर प्रस्तुति दी। उनकी इस प्रस्तुति और व्याख्यान को सुनकर दर्शकों को सामने महाभारत के युद्ध दृश्य जीवंत हो गया।

बस्तरिहा नृत्य कर समा बांधा

नवापारा/राजिम| कुलेश्वरनाथ महादेव मंदिर के पीछे बने सांस्कृतिक पंडाल में दोपहर 12 से शाम 5 बजे तक छत्तीसगढ़ की संस्कृति की प्रस्तुतियां दी गईं। भेंड्री (मगरलोड) के गुरुशरण साहू ने रामायण प्रस्तुत किया। उन्होंने बालकांड प्रसंग पर कहा कि राम का अवतार धरती लोक में आताताइयों के सर्वनाश के लिए हुआ था। राम कथा के माध्यम से एक से बढ़कर एक धार्मिक भजन सुनाकर दर्शकों को भावविभोर कर दिया। छुरा के गोविंद नेताम ने बस्तरिहा नृत्य कर समा बंाधी। सड़क परसुली के टीना ने लोक नृत्य प्रस्तुत किया। चौबेबांधा के दीपक श्रीवास ने जसगीत, खपरी (दुर्ग) के गुणेश्वरी वर्मा की मंडली ने सुआ नृत्य पर जलवा बिखेरा।

गरियाबंद के जितेंद्र सोनवानी की टीम ने आदिवासी अौर कर्मा नृत्य, झूमा चैरदा के इकबाल ने भजनों की प्रस्तुति दी। नवांगांव (रायपुर) के ओमप्रकाश मानिकपुरी ने जगराता में साईं भजन
मेरे सर पे सदा तेरा हाथ रहे... तोला कोरी कोरी नारियल चढ़े... आदि पर खूब तालियां बटोरीं। मड़ेली छुरा के तुसलीबाई मानिकपुरी ने पंडवानी विधा पर महाभारत कथा
का वर्णन किया। सोमेश साहू ने तिरंगा नृत्य किया।

कार्यक्रम का संचालन महेंद्र पंत, मनोज सेन, दुर्गेश तिवारी ने किया। जिला सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रभारी मोहित मोंगरे के अलावा द्वारिका नाग, केसर निर्मलकर, दयालु यादव, जितेंद्र सोनवानी, गोपाल कंसारी, आशीष सेन, डीहू रावत आदि का सहयोग रहा। कार्यक्रम को देखने के लिए बड़ी संख्या में दर्शक उपस्थिति रहे।

मेले के मुख्य मंच पर लोक कलाकार नृत्य करती हुईं।

राजिम माघी पुन्नी मेले लोकगीत सुनातीं ममता चंद्राकर और साथी।

सांस्कृतिक पंडाल में गोविंद नेताम के साथी बस्तरिया नृत्य करते हुए।

Nayapara Rajim News - chhattisgarh news mamta chandrakar39s song toor man kise lage raja onlookers ritu brought pandwani alive
Nayapara Rajim News - chhattisgarh news mamta chandrakar39s song toor man kise lage raja onlookers ritu brought pandwani alive
Nayapara Rajim News - chhattisgarh news mamta chandrakar39s song toor man kise lage raja onlookers ritu brought pandwani alive
X
Nayapara Rajim News - chhattisgarh news mamta chandrakar39s song toor man kise lage raja onlookers ritu brought pandwani alive
Nayapara Rajim News - chhattisgarh news mamta chandrakar39s song toor man kise lage raja onlookers ritu brought pandwani alive
Nayapara Rajim News - chhattisgarh news mamta chandrakar39s song toor man kise lage raja onlookers ritu brought pandwani alive
Nayapara Rajim News - chhattisgarh news mamta chandrakar39s song toor man kise lage raja onlookers ritu brought pandwani alive

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना