व्यक्ति को कृष्ण-सुदामा जैसी मित्रता करनी चाहिए: पं. भानू प्रसाद

Anchalik News - ग्राम गिर्रा के बाजार चौक पर भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। अंतिम दिन पं. भानूप्रसाद शास्त्री शर्मा (सकरी) ने...

Feb 15, 2020, 07:30 AM IST
Palari News - chhattisgarh news one should have friendship like krishna sudama pt bhanu prasad

ग्राम गिर्रा के बाजार चौक पर भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। अंतिम दिन पं. भानूप्रसाद शास्त्री शर्मा (सकरी) ने कहा कि सुदामा चरित्र सुनाते हुए कहा कि सुदामा से परमात्मा ने मित्रता का धर्म निभाया।

राजा के मित्र राजा होते हैं रंक नहीं पर परमात्मा ने कहा कि मेरे भक्त जिसके पास प्रेम धन है, वह निर्धन नहीं हो सकता। कृष्ण और सुदामा दो मित्र का मिलन ही नहीं जीव व ईश्वर तथा भक्त और भगवान का मिलन था, जिसे देखने वाले अचंभित हो गए थे। आज मनुष्य को ऐसा ही आदर्श प्रस्तुत करना चाहिए। सेवा द्वारा ही व्यक्ति महान बनता है। व्यक्ति जब सेवा करता है तो संत बनता है। संत सेवा करता है तब वह भगवान बनता है। समापन पर आरती कर प्रसादी बांटी गई। इस दौरान माखन वर्मा, उर्मिला वर्मा, रघुनंदन वर्मा, खम्हन वर्मा, गनपत, शैल, सुरेंद्र वर्मा, कमल, डाॅ. लोकेश, डाॅ. रोशन, वर्षा, चुन्नीलाल, महेंद्र, दशरथ, कुमारी बाई, मीनू, डाॅ. काजल, सविता, गोदावरी, प्रमिला, सुशीला,डेला, हेमा, खिलेश्वरी, परमेश्वरी, सत्यवती, सीता देवी, गोदावरी, चित्ररेखा, आशा चंद्राकर, बुधिया सहित भक्तों ने कथा सुनी।

पं. सरस्वती नंदन ने वामन अवतार की कथा सुनाई, कृष्ण जन्मोत्सव भी मना

भाटापारा| नयापारा वार्ड के हनुमान मंदिर परिसर में ज्योति कलश स्व सहायता समूह द्वारा आयोजित श्रीमद्भागवत कथा के चौथे दिन शुक्रवार को पंडित सरस्वती
नंदन ने प्रभु के वामन अवतार की कथा सुनाई। कथा के बीच
श्रीकृष्ण जन्मोत्सव भी धूमधाम से मनाया गया।

महाराज ने कहा कि जब-जब भी धरती पर आसुरी शक्ति हावी हुईं, परमात्मा ने धर्म की रक्षा के लिए अवतार लेकर पृथ्वी पर धर्म की स्थापना की। मथुरा में राजा कंस के अत्याचारों से व्यथित होकर धरती की करुण पुकार सुनकर नारायण ने कृष्ण रूप में देवकी के आठवें पुत्र के रूप में जन्म लिए और धर्म और प्रजा की रक्षा कर कंस का अंत किया। रामकथा में बताया कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने धरती को राक्षसों से मुक्त करने के लिए अवतार लिया था।

कथा में कृष्ण जन्म का वर्णन होने पर समूचा पांडाल खुशी से झूम उठा। मौजूद श्रद्धालु भगवान कृष्ण के जयकार के साथ झूमकर कृष्ण जन्म की खुशियां मनाई।

पंडित सरस्वती ने कहा कि एक दृश्य से हमारा पूरा आचरण बदल सकता है। इसलिए आंख और कान सभी पर नियंत्रण होना बेहद जरूरी है। नर्क से बचने का एकमात्र सरल तरीका है कि भागवत भजन। जो जीव भगवत भजन करेगा, जो भगवान के नाम में विश्वास रखता है वो आसानी से भव सागर से तर जाता है। भगवान पर जितना विश्वास करोगे उतना ही अच्छा है। कथा सुनने वार्ड के अलावा आसपास वार्डों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल रहे।

पं. सरस्वती नंदन

पलारी. गिर्रा स्थित बाजार चौक पर भागवत कथा में सुनते श्रद्धालु।

Palari News - chhattisgarh news one should have friendship like krishna sudama pt bhanu prasad
Palari News - chhattisgarh news one should have friendship like krishna sudama pt bhanu prasad
X
Palari News - chhattisgarh news one should have friendship like krishna sudama pt bhanu prasad
Palari News - chhattisgarh news one should have friendship like krishna sudama pt bhanu prasad
Palari News - chhattisgarh news one should have friendship like krishna sudama pt bhanu prasad

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना