बाज झपट्टा के अनोखे खेल में स्वामी विवेकानंद की टीम ने बाजी मारी

Anchalik News - फूलचंद अग्रवाल स्मृति कॉलेज के राष्ट्रीय सेवा योजना यूथ रेडक्रॉस ने बाल संरक्षण अधिकार अौर खेलकूद का आयोजन किया।...

Nov 11, 2019, 07:25 AM IST
फूलचंद अग्रवाल स्मृति कॉलेज के राष्ट्रीय सेवा योजना यूथ रेडक्रॉस ने बाल संरक्षण अधिकार अौर खेलकूद का आयोजन किया। इसमें जिसमें बाज झपट्टा का अनोखा खेल हुआ। इसे विवेकानंद एवं गांधीजी के दो दल शामिल हुए। इस खेल में प्रशांत साहू, गौतम शर्मा, कल्याण निषाद, गिरीश साहू, ऐश्वर्या साहू, पदुम साहू, किरण यादव, किरण साहू, तोषनी साहू, कल्याण सिंह, पार्वती, संतोषी, भूमिका, यशपाल, गोपीचंद, सौरभ, आयुष, देवव्रत, नीरज आदि टीम के प्रमुख खिलाड़ी शामिल रहे। स्वामी विवेकानंद की टीम विजयी रही।

कार्यक्रम के दूसरे चरण में बाल संरक्षण अधिकार विषय पर परिचर्चा हुई। कार्यक्रम संयोजक डॉ. आरके रजक ने कहा कि बाल संरक्षण के लिए 54 अधिकार दिए गए हैं, जिसमें प्रमुख रूप से जीवन जीने का अधिकार, भरण पोषण का अधिकार, स्वास्थ्य का अधिकार, शिक्षा का अधिकार आदि हैं। कार्यक्रम के अंत में सभी स्वयंसेवकों ने गांव, शहर, परिवार तथा समाज में जागरूकता लाने सामूहिक रूप से संकल्प लिया। बाल विवाह, बाल यौन उत्पीड़न, बाल श्रम, कुपोषण, भूखमरी, बेकारी एवं बाल भिक्षावृत्ति को रोकने में हमारी अहम भूमिका रहेगी, तभी समाज के बच्चे उन्नति करेंगे एवं सुरक्षित रहेंगे। कार्यक्रम में विकास साहू, चितरंजन साहू, कुसुम साहू सहित 69 स्वयंसेवकों ने हिस्सा लिया।

नवापारा राजिम. खेलकूद में जौहर दिखाते काॅलेज की छात्राएं।

खेल के नियम: गोले में रखे रूमाल को अधिक बार उठाने वाला दल रहता है विजेता

नवापारा राजिम. खेल के नियम बताते काॅलेज के प्रोफेसर।

बाज झपट्टा खेल में विवेकानंद एवं गांधीजी के दो दलों के 6 लड़के अौर 4 लड़कियों को दस-दस की टीम में बांटकर 40 से 80 फीट की दूरी पर खड़ा किया गया। हर खिलाड़ी को एक से लेकर दस अंक प्रदान किए गए। दोनों दलों के बीच दो फीट का गोला बनाया गया। निर्देशक एक सिरे पर दोनों दलों के बीच खड़ा होकर जैसे ही कोई भी एक अंक जोर से चिल्लाता है, वैसे ही दोनों दलों के खिलाड़ी दौड़कर गोले में रखे रूमाल को बाज की तरह झपट कर वापस अपने दल की ओर वापस पहुंचता है तो उनके द्वारा अंक अर्जित किया जाता है। यदि खिलाड़ी के वापस पहुंचने के बीच में ही विपक्षी दल का उसी नंबर का खिलाड़ी उन्हें छू लेता है तो वह अंक विपक्षी टीम को मिल जाता है। यह प्रक्रिया एक निर्धारित समय तक चलती है, जो टीम सर्वाधिक अंक अर्जित करता है, वह विजेता होता है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना