शहीद मिथिलेश के पिता की कसक- एक अदद स्कूल तक तो सरकार उसके नाम नहीं कर सकी

Anchalik News - आगामी गुरुवार को देश 73वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहा है। इस अवसर पर एक बार फिर अमर शहीदों को याद करते हुए उनके...

Aug 14, 2019, 07:30 AM IST
Balodabazar News - chhattisgarh news the father of martyr mithilesh39s father the government could not name him until a certain school
आगामी गुरुवार को देश 73वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहा है। इस अवसर पर एक बार फिर अमर शहीदों को याद करते हुए उनके शौर्य का गुणगान किया जाएगा परंतु यहां से 6 किलोमीटर दूर ग्राम नवापारा के शहीद मिथिलेश के माता पिता को कसक है कि उनके पुत्र द्वारा देश के लिए दिए गए बलिदान को शासन व प्रशासन ने गंभीरता से नहीं लिया है। दशक भर पूर्व 12 जुलाई 2009 को मदनवाड़ा के कोरकोट्टी जंगल में शहीद राजनांदगांव के पुलिस अधीक्षक वीके चौबे सहित 33 शहीदों में नवापारा का लाल शहीद मिथिलेश साहू भी शामिल था। शहीद के पिता बंसीलाल साहू ने अपनी व्यथा व्यक्त करते हुए कहा कि सभी वीर सपूतों के नाम व पहचान के लिए शासन-प्रशासन द्वारा कुछ ना कुछ बनाया गया है, परंतु शहीद मिथलेश के नाम पर शासकीय स्कूल प्रवेश द्वार अथवा स्मारक तो दूर कोई शासकीय भवन भी आज तक नहीं बन सका है।

उऩ्होंने जोड़ा-मेरी तमन्ना थी कि जिस स्कूल में वह पढ़ लिखकर बड़ा हुआ, उसे ही शहीद के नाम पर कर दिया जाए जिससे उसकी पहचान बनी रहे परंतु नहीं हो पाया है। शहीद परिवार द्वारा किसान सम्मेलन कार्यक्रम में नवापारा प्रवास पर तत्कालीन कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, बलौदाबाजार के स्वतंत्रता दिवस समारोह में तत्कालीन प्रभारी मंत्री पुन्नूलाल मोहले, वर्तमान नगरीय प्रशासन मंत्री शिवकुमार डहरिया सहित विधायकों व जिले के प्रशासनिक अधिकारियों को आवेदन दिया जा चुका है परंतु मंत्रियों द्वारा भी आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला।

सुहेला. शहीद मिथिलेश साहू के माता-पिता और बहन।

मां का दर्द- मुझे नहीं, शहीद बेटे को मिले सम्मान

जिला प्रशासन द्वारा शहीद के माता पिता को प्रत्येक स्वतंत्रता दिवस व गणतंत्र दिवस पर आमंत्रित किया जाता है परंतु शहीद की मां सरस्वती साहू का कहना है कि सम्मान मुझे नहीं उस शहीद को मिले जिसके नाम पर मैं आज जानी पहचानी जाती हूं, जो नहीं हो पा रहा है इसीलिए मैं उक्त कार्यक्रमों से अपने आप को दूर रखती हूं।

स्कूल खोलने विधवा प्रेमादेवी ने जमीन व पैसा दोनों दिया पर शासन ने सुध नहीं ली, अब वो राशन कार्ड के चावल के सहारे

ग्राम पंचायत के पूर्व सरपंच दिलीप वर्मा पूर्व जनपद सदस्य भुवनेश्वर वर्मा आदि ने बताया कि ग्रामवासी शहीद दिवस को होने वाले आयोजनों में सक्रिय सहयोग प्रदान करते हैं। ग्रामीणों को शहीद के नाम पर होने वाले शासकीय कार्य पर किसी प्रकार की आपत्ति नहीं है परंतु शहीद के नाम पर हाई स्कूल के लिए गांव की निसंतान विधवा महिला प्रेमादेवी वर्मा ने स्वर्गीय पति झाडूराम वर्मा के नाम पर 1986- 87 में स्कूल निर्माण के लिए अपनी 2 एकड़ भूमि दान दी थी। तब हाई स्कूल खोलने के लिए शासन को एक निश्चित राशि देना था इसलिए 10 एकड़ भूमि को बेचकर उन्होंने ही राशि शासन को दान दी थी परंतु इतने बड़े त्याग के बावजूद आज तक गांव में शासकीय स्कूल नहीं बना। प्रेमादेवी आज स्वयं राशन कार्ड के चावल से अपना गुजारा कर रही है।

शहीद मिथिलेश

पिता बंसीलाल साहू ने खुद के खर्च पर बनाई गांव में शहीद की प्रतिमा

बंसीलाल साहू ने बताया कि स्वयं के खर्च पर 30 अक्टूबर 2009 को शहीद मिथिलेश के जन्मदिवस पर उन्होंने वहां के बाजार चौक पर तत्कालीन राज्य निगम अध्यक्ष विजय बघेल एवं पूर्व विधायक लक्ष्मी बघेल के हाथों शहीद मिथिलेश की प्रतिमा की स्थापना कराई थी, जहां पर प्रति वर्ष परिवार के लोग कलेक्टर, एसपी, विधायक सहित जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित कर शहीद दिवस मनाते हैं। अतिथियों द्वारा हर साल उस मंच से बड़े-बड़े आश्वासन तो दिए जाते हैं परंतु धरातल पर आज तक कोई निशानी नहीं है।

रक्षाबंधन पर हर साल प्रतिमा को राखी बांधने जाती है बहन संगीता

गौरतलब है कि 12 जुलाई 2009 को जिस दिन नक्सलियों ने 33 लोगों को कायराना हमला कर विस्फोट से उड़ाया था उस दिन रविवार था इसलिए बिना नागा हर रविवार को शहीद की प्रतिमा के सामने बिना नागा परिवार के लोग दीप जलाते हैंं। प्रत्येक राष्ट्रीय पर्व पर झंडोत्तोलन का आयोजन कर ग्राम के गणमान्य व्यक्तियों से तिरंगा फहराया जाता है। शहीद की बहन संगीता साहू ने बताया कि वह प्रत्येक रक्षाबंधन पर अपने भाई को राखी बांधने प्रतिमा स्थल पर जरूर जाती हैंं।

Balodabazar News - chhattisgarh news the father of martyr mithilesh39s father the government could not name him until a certain school
X
Balodabazar News - chhattisgarh news the father of martyr mithilesh39s father the government could not name him until a certain school
Balodabazar News - chhattisgarh news the father of martyr mithilesh39s father the government could not name him until a certain school
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना