• Hindi News
  • Rajya
  • Chhattisgarh
  • Balod
  • Dallirajhara News chhattisgarh news black clouds are surrounded neither thundering nor raining the worries of farmers increased due to the short year

घिरे तो हैं काले बादल... न गरज रहे न बरस रहे, इधर अल्पवर्षा से किसानों की चिंता बढ़ी

Balod News - जिले के डौंडी ब्लाक में सबसे कम बारिश होने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। समय पर बारिश नहीं होने से निंदाई, बियासी व...

Aug 14, 2019, 08:45 AM IST
Dallirajhara News - chhattisgarh news black clouds are surrounded neither thundering nor raining the worries of farmers increased due to the short year
जिले के डौंडी ब्लाक में सबसे कम बारिश होने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। समय पर बारिश नहीं होने से निंदाई, बियासी व रोपा लगाने का काम पिछड़ गया है। खेतों में नमी है, जिस कारण खेत हरा-भरा है। लेकिन पर्याप्त पानी नहीं होने से धान के पौधों का विकास रुक गया है।

आसमान में बादल छाए रहने के बावजूद भी बारिश नहीं हो रही है। मंगलवार को हल्की बूंदाबांदी हुई। शुरू से ही बारिश कम होने के कारण खेतों में पानी नहीं भरा है। इधर कृषि विभाग अल्पवर्षा के चलते राजस्व विभाग के साथ खेतों में पहुंचकर सर्वे कर रहा है। सर्वे के बाद फसल का आंकलन कर वास्तविक रिपोर्ट सरकार को भेजी जाएगी। किसानों का कहना है कि सूखे की स्थिति को देखते हुए फसल बीमा का लाभ दिलाया जाए। गौरतलब है कि एक ओर छत्तीसगढ़ के बस्तर सहित अन्य जिलों में अति बारिश से जनजीवन प्रभावित हुआ है।

वहीं डौंडी ब्लाक के लोगांे ने इस साल अच्छी बारिश देखी नहीं है। रोज दिन भर काले बादल छाए रहते है। लेकिन बारिश नहीं हो रही है। कृषि विभाग ने पिछले वर्ष की तुलना में 210 मिमी कम बारिश रिकार्ड की है। विभाग के अनुसार पिछले वर्ष अगस्त माह के प्रथम दिन तक 392 मिमी बारिश दर्ज की गई थी। लेकिन इस बार 182 मिली बारिश दर्ज की गई है। जबकि पिछले वर्ष का कुल रिकार्ड 1100 से 1200 मिमी बारिश दर्ज किया गया था। कृषि विभाग का मानना है कि अभी अवर्षा की स्थिति है। यहां केवल 5 से 10 प्रतिशत बियासी हुआ है। अवर्षा के चलते गांव-गांव में चौपाल लगाकर सर्वे कराया जा रहा है। कुछ दिनों तक बारिश का यही हाल रहा तो सूखे की स्थिति से इंकार नहीं किया जा सकता। पर्याप्त बारिश होने पर ही किसानों को राहत मिल पाएगी।

कई गांवों में तालाब सिंचाई का साधन है। लेकिन इस साल अच्छी बारिश नहीं होने से गांव का तालाब खाली है। इससे ग्रामीणों को सिंचाई की सुविधा नहीं मिल पा रही है। वहीं निस्तारी की समस्या हो रही है। रविवार व सोमवार को हल्की बारिश हुई। क्षेत्र में 38.9 मिमी बारिश विभाग ने दर्ज किया।

रिपोर्ट सरकार को भेजी जाएगी: ग्रामीण कृषि अधिकारी प्रणेश शर्मा ने बताया कि डौंडी क्षेत्र में अब तक हुई बारिश को बहुत अच्छी तो नहीं कही जा सकती है। चूंकि पिछले वर्ष की अवधि को देखते हुए इस वर्ष की बारिश रिकार्ड में आधा भी नहीं है। शासन से आदेश मिलने के बाद सर्वे कराया जा रहा है। सर्वे का काम पूरा होने के बाद रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी।

डौंडी ब्लॉक में सबसे कम बारिश: गत वर्ष की तुलना में 210 मिमी कम वर्षा दर्ज

दल्लीराजहरा. सिंचाई सुविधा वाले किसान लगा रहे रोपा। इधर राजस्व विभाग खेतों में पहुंचकर कर रहा सर्वे।

जलस्तर गिरा, ट्यूबवेल में कम आ रहा पानी

किसानों को असिंचित भूमि का बीमा कराने पर 720 रुपए प्रति हेक्टेयर पर 36 हजार व सिंचित भूमि पर 900 रुपए के बीमा पर 45 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर बीमा राशि देने का प्रावधान है। वही दलहन-तिलहन पर 370 रुपए प्रति हेक्टेयर में 18हजार 500 रुपए वन टाइम बीमा दिया जाता है। आदिवासी ब्लाक डौंडी में 25 हजार हेक्टेयर खरीफ रकबा का रिकार्ड है। जहां कुल करीब 19500 किसान है। जिसमें असिंचित जमीन धारक किसान 21 हजार व सिंचित जमीन धारक किसान 4000 से अधिक है। क्षेत्र में करीब 1290 ट्यूबवेल्स है। जल स्तर नीचे जाने के कारण पर्याप्त पानी नहीं निकल पा रहा है।

X
Dallirajhara News - chhattisgarh news black clouds are surrounded neither thundering nor raining the worries of farmers increased due to the short year
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना