कविता लेखन से बच्चों को भी बता रहे हिंदी का महत्व

Balod News - शहर सहित गांव के 20 लेखक और कवि मिलकर जिले में हिंदी भाषा के संवर्धन और संरक्षण को लेकर काम कर रहें हैं। हम बात करें...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 06:40 AM IST
Balod News - chhattisgarh news by writing poetry children are also telling the importance of hindi
शहर सहित गांव के 20 लेखक और कवि मिलकर जिले में हिंदी भाषा के संवर्धन और संरक्षण को लेकर काम कर रहें हैं। हम बात करें प्रेरणा साहित्य समिति की। जो बालोद में 12 अगस्त 2012 से शुरू हुआ।

यह वही अवसर है, जब दुर्ग से अलग होकर बालोद जिले की भी शुरुआत हुई थी। इससे जुड़े 20 लोगों ने हिंदी और छत्तीसगढ़ी दोनों भाषा को बढ़ावा देने के लिए कई रचनाएं लिखी है। जिनमें यह मेरा हिंदुस्तान है, मेरे देश के दीमक सहित अन्य पुस्तकें प्रमुख है। जो राज्य भर में चर्चा का विषय रही। इस समिति से जुड़े सभी कवि व लेखक अलग-अलग फील्ड में काम करते हैं। जिनकी स्वयं की अलग-अलग रचनाएं भी है। जो हिंदी भाषा को बढ़ावा देने के लिए लिखी गई है। समिति के लोग स्कूली बच्चों में हिंदी की महत्ता को बरकरार रखने के लिए कविता पाठ के जरिए पहल कर रहे हैं। वे स्कूलों में जाकर बच्चों के बीच कविता लेखन प्रतियोगिता करवाते हैं। इसके अलावा वे खुद गांव में जाकर कवि सम्मेलन से हिंदी भाषा का प्रचार प्रसार करते हैं।

बालोद. कवि सम्मेलन के जरिए हिंदी भाषा को बढ़ावा देने प्रेरित कर रहे।

साहित्य प्रेरणा देती है समिति का नाम भी वही रखी

अध्यक्ष अरुण साहू, सचिव एसएल गंधर्व ने कहा कि साहित्य प्रेरणा देती है, इसलिए जब समिति बनाई तो उसका नाम भी प्रेरणा साहित्य समिति रखा ताकि लोगों के लिए यह समिति हमेशा प्रेरणादायक काम करती रहे। पहले 10 लोग ही इससे जुड़े थे। जो समिति बनने से पहले अलग-अलग विधाओं पर लिखते थे। आयोजन और कई रचनाओं के जरिए लोगों को हिंदी भाषा को बढ़ावा देने प्रेरित करते हैं। कवि सम्मेलन में मनोरंजक चीजों को समावेश कर हिंदी की महत्ता बताई जाती है।

जॉब करने के साथ ही कविताएं भी लिखते हैंं

झलमला निवासी पुष्कर राज पीडब्ल्यूडी में टाइम कीपर है। लेकिन उनकी लेखनी हास्य व्यंग पर ज्यादा चलती है। उन्होंने देश और यहां के हालातों पर कई प्रेरक रचनाएं लिखी हैं। हाल ही में यह मेरा हिंदुस्तान है, उनकी ही रचना है। जिसमें उन्होंने 32 कविता के जरिए पहले व आज के नेताओं की तुलना की है। इसके अलावा छत्तीसगढ़ी भाषा में उन्होंने “रावण कैसे मरही” की रचना की है। जिसमें 40 कविताओं के जरिए देश को चूसने वाले लोगों पर कटाक्ष किया गया है।

X
Balod News - chhattisgarh news by writing poetry children are also telling the importance of hindi
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना