दिव्यांगों के इलाज में बढ़ाएं हाथ ताकि संवर सके उनकी जिंदगी

Balod News - छग राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर से जारी स्टेट प्लाॅन ऑफ़ एक्शन के तहत विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर जिला...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 06:30 AM IST
Balod News - chhattisgarh news increase hands in the treatment of divyang so that their life can improve
छग राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर से जारी स्टेट प्लाॅन ऑफ़ एक्शन के तहत विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने सर्किट हाउस में कार्यशाला रखी। मानसिक रूप से अस्वस्थ एवं दिव्यांग व्यक्तियों के लिए विधिक जागरूकता अभियान चलाने की बात जज ने कही। न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी पार्थ तिवारी ने मेंटल हेल्थ केयर एक्ट 2017 के बारे में बताया। लोगों से अपील की गई कि अपने आसपास के मानसिक दिव्यांगों के इलाज के लिए हाथ बढ़ाएं, शासन ऐसे लोगों का बिलासपुर के सेंदरी अस्पताल में नि:शुल्क इलाज करवाता है। अगर हम थोड़ी सी जागरूकता दिखाते हैं तो ऐसे दिव्यांगों की भी जिंदगी संवर सकती है।

तिवारी ने कहा यदि कहीं पर मानसिक रूप से अस्वस्थ और मानसिक रूप से विकलांग व्यक्ति घुमते हुए पाया जाता है तो उसकी सूचना संबंधित क्षेत्र के थाने में दें या संभव हो तो ऐसे व्यक्ति को थाने में ले जाकर उनके बारे में जानकारी दें। ऐसे व्यक्ति के बारे में संबंधित थाने में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद डाॅक्टर के दिए प्रारंभिक सलाह के अनुसार यदि लगता है कि उस व्यक्ति को मानसिक चिकित्सा की जरूरत है तो थाना प्रभारी, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष या एसडीएम के समक्ष उक्त व्यक्ति को पेश करेगा। नजज ने सभी से मानसिक रोगियों के इलाज व मदद में भूमिका निभाने की अपील की। ्यायालय के आदेश पर उसे आवश्यक चिकित्सा के लिए अस्पताल भिजवाया जाएगा। जिला अधिवक्ता संघ बालोद के अध्यक्ष एके कश्यप मौजूद रहे।

ट्रेनिंग: बिलासपुर में शासन की ओर से इलाज की सुविधा

बालोद. सर्किट हाउस में हुई कार्यशाला में मौजूद लोग।

इलाज में सिर्फ दवा नहीं व्यवहार की भी भूमिका: अग्रवाल

प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश मनोज कुमार सिंह ठाकुर ने विकृत चित्त व्यक्ति के संबंध में विभिन्न अधिनियम भारतीय संविदा अधिनियम, संपत्ति अंतरण अधिनियम, हिन्दू विवाह अधिनियम, दत्तक ग्रहण एवं भरण पोषण अधिनियम, विशेष विवाह अधिनियम, भारतीय दण्ड संहिता, दण्ड प्रक्रिया संहिता में कहां-कहां पर क्या-क्या व्यवस्थाएं दी गई है, उनके बारे में बताया। उमेश अग्रवाल ने कहा कि मानसिक रोगियों का इलाज केवल दवा मात्र से संभव नहीं है बल्कि उनके जल्दी ठीक होने के लिए उनके साथ उचित व्यवहार भी दवा की तरह ही काम करती है।

X
Balod News - chhattisgarh news increase hands in the treatment of divyang so that their life can improve
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना