मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाकर बच्चों ने पालकों की उतारी आरती, लिया आशीर्वाद

Balod News - वेलेंटाइन डे पर समाज को संस्कार की शिक्षा देने के लिए शुक्रवार को स्कूल सहित गांव में मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाया...

Feb 15, 2020, 06:35 AM IST
Balod News - chhattisgarh news mothers and fathers celebrate puja divas and children perform aarti for parents took blessings

वेलेंटाइन डे पर समाज को संस्कार की शिक्षा देने के लिए शुक्रवार को स्कूल सहित गांव में मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाया गया।

शहर के कुंदरूपारा प्राइमरी स्कूल में शहरी बच्चों में माता-पिता के प्रति आदर भाव जगाने के लिए यह आयोजन हुआ। शिक्षक केशव बंजारे के मार्गदर्शन में बच्चों ने अपने पालकों की आरती उतार कर आशीर्वाद लिया। आयोजन का उद्देश्य बच्चों में शिक्षा के साथ संस्कार जगाना था।

इसी तरह ग्राम बेलमांड में सामूहिक रूप से ग्रामीणों ने मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाया। जहां 2000 से ज्यादा माता-पिता की उनके बच्चों ने आरती उतार कर पूजा की। इस दौरान संत सम्मेलन व हिंदू महासभा भी हुई। जिसमें दिल्ली से आए स्वामी चंद्रपाल ब्रह्मचारी, अहमदाबाद से आई साध्वी तरुणा व करकाभाट के स्वामी आत्माराम कुंभज ने समाज को नेक कार्यों की ओर आगे बढ़ने प्रेरित किया। पाश्चात्य संस्कृति को त्यागने का आह्वान किया।

विरोध नहीं, बस लोगों में संस्कार बचाना चाहते हैं: बेलमांड में पूजन महोत्सव के आयोजक पुरुषोत्तम राजपूत ने भी कहा कि हम वैलेंटाइन डे का विरोध नहीं करते लेकिन समाज अपनी संस्कृति से ना भटके इसलिए उन्हें जागरूक और सजग करने के लिए इस दिन को मातृ-पितृ पूजन दिवस के रूप में मनाते हैं। ताकि आज की पीढ़ी में संस्कार बना रहे और अच्छे कार्यों के लिए प्रेरित हो। जिले के सरकारी स्कूलों में भी मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाया गया। बच्चों ने अपने माता-पिता की पूजा की और उनसें आशीर्वाद प्राप्त किया। शिक्षकों ने बच्चों को माता-पिता की सेवा करने की सीख दी।

आयोजन: बेलमांड में संत सम्मेलन व हिंदू महासभा सहित पूजन महोत्सव मनाया

शिक्षक बोले- धरती पर भगवान होते हैं मां-बाप

शासकीय हाई स्कूल हर्राठेमा में बच्चों ने थाल सजाकर अपने माता पिता की आरती की प्राचार्य पीके देवांगन, अकबर सिंह कुंजाम, मनसुख गावड़े , सरपंच जितेंद्र कुमार पटेल, कस्तू राम निषाद, जनपद सदस्य अमृता नेताम, राजेश तेता मौजूद रहे। शिक्षिका के वर्मा ने माता-पिता की पूजा क्यों जरूरी है, उनका आशीर्वाद लेना क्यों जरूरी है? इस बारे में बच्चों को बताया। कहा कि इस पृथ्वी पर मां बाप ही भगवान के रूप होते हैं। जो भी बच्चे अपने माता-पिता की श्रद्धा , भक्ति और पूर्ण समर्पण भाव से सेवा करता है, वह इस दुनिया में कभी भी दुख नहीं पाता है , हमेशा विकास करता है और संस्कारवान बनता है। दसवीं की छात्रा रुपेश्वरी ने भगवान गणेश प्रथम पूजनीय कैसे बने? पर कथा वाचन किया सभी सहपाठियों से मात-पिता की सेवा करने आग्रह किया। संचालन शिक्षक चमनलाल कलिहारी ने किया।

संस्कृति से ना भटके इसलिए उन्हें जागरूक और सजग करने के लिए इस दिन को मातृ-पितृ पूजन दिवस के रूप में मनाते हैं। ताकि आज की पीढ़ी में संस्कार बना रहे और अच्छे कार्यों के लिए प्रेरित हो। जिले के सरकारी स्कूलों में भी मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाया गया। बच्चों ने अपने माता-पिता की पूजा की और उनसें आशीर्वाद प्राप्त किया। शिक्षकों ने बच्चों को माता-पिता की सेवा करने की सीख दी।


कुंदरूपारा स्कूल में संस्कार की शिक्षा देने हुई पहल।


हर्राठेमा स्कूल में मनाया गया मातृ पितृ पूजन दिवस।


बालोद. बेलमांड में सामूहिक रूप से ग्रामीणों ने मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाया।

Balod News - chhattisgarh news mothers and fathers celebrate puja divas and children perform aarti for parents took blessings
Balod News - chhattisgarh news mothers and fathers celebrate puja divas and children perform aarti for parents took blessings
X
Balod News - chhattisgarh news mothers and fathers celebrate puja divas and children perform aarti for parents took blessings
Balod News - chhattisgarh news mothers and fathers celebrate puja divas and children perform aarti for parents took blessings
Balod News - chhattisgarh news mothers and fathers celebrate puja divas and children perform aarti for parents took blessings
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना