एनसीसी के शिक्षक की नहीं हुई नियुक्ति 56 कैडेट्स व सीनियर छात्रों का हंगामा

Balod News - शहर के शासकीय घनश्याम सिंह गुप्त महाविद्यालय में दिखा। जहां एनसीसी की शिक्षा बंद होने के डर से एनसीसी के 56 कैडेट्स...

Aug 14, 2019, 08:35 AM IST
Balod News - chhattisgarh news ncc teacher not appointed 56 cadets and senior students uproar
शहर के शासकीय घनश्याम सिंह गुप्त महाविद्यालय में दिखा। जहां एनसीसी की शिक्षा बंद होने के डर से एनसीसी के 56 कैडेट्स और सीनियर छात्रों ने लगभग 3 घंटे तक हंगामा किया। दोपहर 12 से 3 बजे तक चले इस हंगामे के दौरान छात्रों ने कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कभी गेट पर तो कभी प्राचार्य के चेंबर के बाहर जमीन पर बैठ युवा प्रदर्शन करते रहे। यहीं पर बगल में ही छात्र-छात्राओं की एडमिशन फॉर्म भरने लंबी कतार लगी हुई थी। इसके बाद भी युवाओं का हंगामा चलता रहा। हंगामा किसी बड़े विवाद का रूप न ले ले इसलिए कॉलेज प्रबंधन ने पुलिस भी बुला लिया फिर समझाइश के बाद मामला शांत हुआ।

परेड का नहीं बन पाए हिस्सा: बिना शिक्षक (ट्रेनर) के न होने के कारण इस बार स्वतंत्रता दिवस समारोह में भी एनसीसी कैडेट परेड का हिस्सा नहीं बन पा रहे हैं। इससे भी छात्रों में नाराजगी है। हर साल कॉलेज के एनसीसी कैडेट राष्ट्रीय पर्व में हिस्सा लेते थे। उनके बेहतर प्रदर्शन के कारण राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर भी अवाॅर्ड मिल चुका है। प्रदर्शन में एनसीसी कैडेट रूपेंद्र कुमार, योमन, छतेंद्र साहू, लक्की सिन्हा, देवेन्द्र साहू, मनीष साहू सहित अन्य छात्र शामिल रहे।

लीड कॉलेज: गेट व प्राचार्य के चेंबर के सामने किया प्रदर्शन

कॉलेज परिसर में प्रदर्शन करते रहे एनसीसी के कैडेट।

एनसीसी के शिक्षक पांडेय का हो गया है ट्रांसफर

दरअसल कॉलेज में पदस्थ एनसीसी की शिक्षा देने वाले शिक्षक सुरेश पांडेय का पिछले सत्र से ट्रांसफर हो गया है। शासन से नए शिक्षक की नियुक्ति नहीं हुई है। जबकि बालोद कॉलेज में 56 एनसीसी कैडेट्स हैं। अब नए सत्र में फर्स्ट ईयर के छात्र जो एनसीसी में रुचि रखते हैं, वे बिना शिक्षक के एनसीसी ज्वाइन नहीं कर पा रहे। अब तक शिक्षक की नियुक्ति न होने से कोर्स का संचालन लटका हुआ है। एनसीसी कैडेट और सीनियर छात्रों को कोर्स बंद होने का खतरा है। शिक्षक की व्यवस्था की जाए।

शासन से नियुक्ति नहीं हुई तो हम क्या करें: प्राचार्य

3 घंटे तक हंगामा कर युवा प्राचार्य को बाहर बुलाने की मांग कर रहे थे। लेकिन प्राचार्य नहीं आई। फिर बातचीत का रास्ता निकाला गया। आंदोलन कर रहे छात्र प्रतिनिधि चेंबर में गए। प्राचार्य से शिक्षक नियुक्ति की मांग करने लगे। प्राचार्य श्रद्धा चन्द्राकर ने कहा कि शासन से ही नियुक्ति नहीं हुई, तो क्या कर सकती हूं। 42 साल से कम उम्र के कोई भी शिक्षक नहीं है। कमिश्नर तक भी गई लेकिन कुछ नहीं हुआ। 42 साल से कम उम्र के ही शिक्षक को ही इसमें नियुक्ति देनी है। पांडेय तबादले के बाद इससे कम उम्र के शिक्षक नहीं मिल रहे।

हंगामे के बीच ही फॉर्म भरने लगी छात्रों की भीड़।

सीएम को बताएंगे प्रबंधन की नाकामी: छात्र

सीनियर छात्र वैभव शर्मा ने कहा कि कॉलेज प्रबंधन की नाकामी के चलते ही अब तक एनसीसी का शिक्षक नियुक्त नहीं हो पाया। आज छात्र इस कोर्स का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। जबकि इस कोर्स की बदौलत कॉलेज का नाम दिल्ली तक पहुंचा है। हमारे आंदोलन को भी अनदेखा किया जा रहा है इसलिए अब सीएम भूपेश बघेल व उच्च शिक्षा मंत्री तक भी छात्र प्रतिनिधि जाकर अपनी आवाज उठाएंगे। प्रबंधन की नाकामी को भी बताएंगे। छात्रों का कहना है कि शिक्षक की िनयुक्ति नहीं होने से पढ़ाई प्रभावित हो रही है।

Balod News - chhattisgarh news ncc teacher not appointed 56 cadets and senior students uproar
X
Balod News - chhattisgarh news ncc teacher not appointed 56 cadets and senior students uproar
Balod News - chhattisgarh news ncc teacher not appointed 56 cadets and senior students uproar
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना