आचार संहिता उल्लंघन पर निगरानी को लेकर कोई सिस्टम नहीं, चुनाव जीतने प्रत्याशी उठाएंगे फायदा

Balod News - निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव के लिए भी आदर्श आचरण संहिता लागू की है लेकिन इसमें खामी यह है कि अन्य चुनाव की तरह...

Jan 16, 2020, 06:35 AM IST
Balod News - chhattisgarh news no system to monitor the violation of code of conduct candidates will win the election
निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव के लिए भी आदर्श आचरण संहिता लागू की है लेकिन इसमें खामी यह है कि अन्य चुनाव की तरह इसमें आचार संहिता का पालन हो रहा है या नहीं? इसकी कोई निगरानी भी नहीं होगी। अगर कहीं से कोई शिकायत आती है तभी संबंधित अफसर वहां कार्रवाई के लिए जाएंगे।

ऐसे में आचार संहिता का उल्लंघन भी होगा और प्रत्याशी भी एक दूसरे की गलती छिपा सकते हैं। कुछ जगह यह स्थिति होती है कि विपक्षी प्रत्याशी व समर्थक अगर विरोधी दल के प्रत्याशी के समर्थक आचार संहिता का उल्लंघन करते हैं तो वे नियम कायदों से रिटर्निंग ऑफिसर को शिकायत करते हैं। लेकिन ऐसा बहुत कम देखने को मिलेगा। आचार संहिता की निगरानी के लिए कोई व्यवस्था नहीं होने का फायदा भी उठाएंगे। मतदाताओं को लुभाने के लिए हर तरीका अपनाएंगे। बुधवार को जनपद पंचायत बालोद में सरपंच, पंच व अन्य पदों के प्रत्याशियों की बैठक हुई। जहां मास्टर ट्रेनर एनके गवेल व रिटर्निंग ऑफिसर तहसीलदार रश्मि वर्मा ने प्रत्याशियों को आचार संहिता की बारीकियों को बताया। कहा कि इनका उल्लंघन ना करें।

पंचायत चुनाव
जनसंपर्क जारी: बैठक लेकर अफसरों ने प्रत्याशियों को चेताया, प्रचार में ना करें निर्देश की अवहेलना

बालोद. बैठक में शामिल सरपंच सहित अन्य पदों पर चुनाव लड़ने वाले।

इस चुनाव में मॉनिटरिंग की कोई व्यवस्था नहीं

तहसीलदार रश्मि वर्मा ने कहा कि अन्य चुनाव की तरह इसमें प्रत्याशी कहीं आचार संहिता का उल्लंघन तो नहीं कर रहे हैं? इसकी आयोग से निगरानी का कोई प्रावधान नहीं है, ना ही कोई टीम बनी रहेगी। जो गांव-गांव या संबंधित क्षेत्र में जाकर निगरानी कर सकें। इसलिए हम सिर्फ शिकायत पर कार्रवाई करेंगे। अगर किसी पंचायत, जनपद या जिला पंचायत क्षेत्र से कहीं भी किसी प्रत्याशी या समर्थकों द्वारा आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत आती है तो उनकी जांच कर कार्रवाई की जाएगी। सभी क्षेत्र में रिटर्निंग ऑफिसर वहां के तहसीलदार को बनाया गया है। जिसे कोई भी मतदाता, प्रत्याशी या समर्थक किसी भी तरह के उल्लंघन की शिकायत कर सकते हैं। इसके लिए लिखित आवेदन भी देना रहेगा। शिकायत करने वालों के पास उल्लंघन से संबंधित सबूत भी होने चाहिए। अगर झूठी शिकायत हुई तो उल्टा उन्हीं के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। पंचायत चुनाव के लिए पहले चरण का मतदान 28 जनवरी को है। यानी अब मुश्किल से दो हफ्तों का ही समय बचा हुआ है। ऐसे में प्रत्याशी प्रचार के लिए एड़ी चोटी एक करेंगे।

प्रत्याशियों को आचार संहिता के नियमों के बारे में बताते हुए मास्टर ट्रेनर।

दूसरे के पोस्टर पर नहीं चिपका सकेंगे अपना पोस्टर

प्रत्याशियों को कहा गया है कि वे चुनाव प्रचार के दौरान एक दूसरे के प्रचार में कोई खलल नहीं डाल सकेंगे। यानी अगर किसी प्रत्याशी ने किसी जगह पर पोस्टर या बैनर लगाया है तो उस जगह पर उसी पोस्टर पर दूसरा प्रत्याशी या समर्थक पोस्टर बैनर नहीं लगा सकते। दोनों अगल-बगल लगा सकते हैं। रैली, जुलूस या सभा के लिए भी रिटर्निंग ऑफिसर से लिखित अनुमति लेनी होगी। मतदान के 2 दिन पहले से लेकर मतदान के दिन तक किसी भी अभ्यर्थी द्वारा ना तो शराब खरीदी जाएगी और ना ही उसे किसी को बांटा जाएगा। अगर किसी व्यक्ति के भूमि, भवन, दीवार का उपयोग झंडा लगाने, पोस्टर चिपकाने, नारे लिखने के लिए कर रहे हैं तो इसके लिए भी संबंधित व्यक्ति की अनुमति लेनी होगी। प्रत्याशी एक दूसरे के प्रचार सामग्री हटा नहीं सकेंगे, ना ही उन्हें तोड़फोड़ करेंगे। पूजा स्थल का इस्तेमाल चुनाव प्रचार के लिए नहीं कर सकेंगे। मत प्राप्त करने के लिए धार्मिक संप्रदाय या जाति भावनाओं का सहारा नहीं लेंगे। प्रत्याशी अन्य प्रत्याशी के नेताओं के पुतले लेकर नहीं चलेंगे या उन्हें किसी भी सार्वजनिक स्थान पर नहीं जला सकेंगे।

ये भी है नियम, जिसे नजरअंदाज नहीं करना है

मतदाताओं को दी जाने वाली पहचान पर्चियां सादे कागज पर होनी चाहिए। उनमें अभ्यर्थी का नाम या चुनाव चिन्ह नहीं होना चाहिए। पर्ची में मतदाता का नाम, उसके पिता/पति का नाम, वार्ड क्रमांक, मतदान केंद्र क्रमांक व मतदाता सूची में उसके क्रमांक के अलावा और कुछ नहीं लिखा होना चाहिए। मतदान केंद्र के 100 मीटर के दायरे में किसी भी तरह से चुनाव प्रचार नहीं कर सकेंगे। मतदाताओं को कोई रिश्वत या उपहार नहीं दे सकेंगे।

झूठा समाचार भी नहीं छपवा सकेंगे

कोई भी प्रत्याशी निर्वाचन की संभावना पर प्रतिकूल प्रभाव डालने के उद्देश्य से किसी के व्यक्तिगत आचरण और चरित्र या प्रत्याशी के सम्मान में संबंध में ऐसे कथन या समाचार का प्रकाशन करवाता है, जो झूठा हो या जिसके सत्य होने का विश्वास ना हो तो ऐसे प्रत्याशियों पर भी कार्रवाई होगी। व्यक्तिगत जीवन से जुड़े पहलुओं की आलोचना नहीं कर सकेंगे।

Balod News - chhattisgarh news no system to monitor the violation of code of conduct candidates will win the election
X
Balod News - chhattisgarh news no system to monitor the violation of code of conduct candidates will win the election
Balod News - chhattisgarh news no system to monitor the violation of code of conduct candidates will win the election
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना