अब डबल ओपीडी की ड्यूटी में कोताही बरतने वाले डॉक्टरों पर होगी कार्रवाई, मंगाई रिपोर्ट

Balod News - सरकारी अस्पतालों में 1 जनवरी से दो पालियों में ओपीडी की सुविधा शुरू हुई है। लेकिन डॉक्टर इसका कहीं खुलकर तो कहीं...

Jan 16, 2020, 06:35 AM IST
Balod News - chhattisgarh news now action will be taken on the doctors who have done double opd duty report sent
सरकारी अस्पतालों में 1 जनवरी से दो पालियों में ओपीडी की सुविधा शुरू हुई है। लेकिन डॉक्टर इसका कहीं खुलकर तो कहीं अप्रत्यक्ष ढंग से विरोध कर रहे हैं। आदेश का पालन नहीं करने वालों व डबल ओपीडी की ड्यूटी में कोताही बरतने वालों पर शासन अब कार्रवाई की तैयारी कर रहा है। इसके लिए शासन ने सभी जिले के स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को पत्र जारी कर जानकारी मांगी है। जिसमें उन्हें बताने कहा गया है कि कौन-कौन से डॉक्टर इस व्यवस्था में बाधा डाल रहे हैं। जो ड्यूटी पर नहीं आ रहे हैं या लापरवाही कर रहे हैं। ऐसे डॉक्टरों की सूची जिला अस्पताल सहित ब्लॉक के अस्पतालों से भेजी जाएगी। जिस पर स्वास्थ्य संचालक कार्रवाई करेंगे।

जिले के अस्पतालों में भी दो पाली की ओपीडी व्यवस्था पर डॉक्टर खरे नहीं उतर रहे हैं। कई अस्पतालों में शाम के शिफ्ट में इक्का दुक्का ही डॉक्टर मिलते हैं। जिला अस्पताल में भी यह स्थिति बनी रहती है। रोज यहां दो से तीन चेंबर से डॉक्टर कभी ट्रेनिंग के नाम से तो कभी दूसरे अस्पताल में ड्यूटी के नाम से गायब रहते हैं।

ये है डॉक्टरों की मांगें: अस्पतालों में दो पालियों में ओपीडी सुविधा निरस्त करें। अधिकतम ड्यूटी सीमा का निर्धारण हो। अवकाश की पात्रता हो। 24 घंटे संपूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता हो। साथ ही मरीजों की संख्यानुसार स्टाफ की नियुक्ति हो।

मंत्री को बताई परेशानी

छत्तीसगढ़ इन सर्विस डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. इकबाल हुसैन का कहना है कि बिना किसी व्यवस्था या मैनपॉवर बढ़ाए दोनों पालियों में ओपीडी की सेवा लागू तो कर दी गई। स्वास्थ्य मंत्री और सचिव को भी दिक्कतों के बारे में अवगत कराया गया, लेकिन हमारी स्थिति को समझने को तैयार ही नहीं है। सरकार द्वारा मांगें नहीं मानी गई है इसलिए 16 जनवरी से आपात सेवा का भी बहिष्कार किया जा रहा है।

भास्कर न्यूज | बालोद

सरकारी अस्पतालों में 1 जनवरी से दो पालियों में ओपीडी की सुविधा शुरू हुई है। लेकिन डॉक्टर इसका कहीं खुलकर तो कहीं अप्रत्यक्ष ढंग से विरोध कर रहे हैं। आदेश का पालन नहीं करने वालों व डबल ओपीडी की ड्यूटी में कोताही बरतने वालों पर शासन अब कार्रवाई की तैयारी कर रहा है। इसके लिए शासन ने सभी जिले के स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को पत्र जारी कर जानकारी मांगी है। जिसमें उन्हें बताने कहा गया है कि कौन-कौन से डॉक्टर इस व्यवस्था में बाधा डाल रहे हैं। जो ड्यूटी पर नहीं आ रहे हैं या लापरवाही कर रहे हैं। ऐसे डॉक्टरों की सूची जिला अस्पताल सहित ब्लॉक के अस्पतालों से भेजी जाएगी। जिस पर स्वास्थ्य संचालक कार्रवाई करेंगे।

जिले के अस्पतालों में भी दो पाली की ओपीडी व्यवस्था पर डॉक्टर खरे नहीं उतर रहे हैं। कई अस्पतालों में शाम के शिफ्ट में इक्का दुक्का ही डॉक्टर मिलते हैं। जिला अस्पताल में भी यह स्थिति बनी रहती है। रोज यहां दो से तीन चेंबर से डॉक्टर कभी ट्रेनिंग के नाम से तो कभी दूसरे अस्पताल में ड्यूटी के नाम से गायब रहते हैं।

ये है डॉक्टरों की मांगें: अस्पतालों में दो पालियों में ओपीडी सुविधा निरस्त करें। अधिकतम ड्यूटी सीमा का निर्धारण हो। अवकाश की पात्रता हो। 24 घंटे संपूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता हो। साथ ही मरीजों की संख्यानुसार स्टाफ की नियुक्ति हो।

क्या कह रहे अफसर

स्वास्थ्य सेवाएं संचालक नीरज बंसोड़ का कहना है डॉक्टरों को पहले ही हिदायत दे दी गई थी, कि दोनों पालियों में ओपीडी की सुविधा को बंद नहीं किया जाएगा। सभी जिलों से ऐसे डॉक्टरों की सूची मंगाई गई है, जो ओपीडी की सेवा में बाधा पहुंचा रहे हैं। जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. आरके श्रीमाली का कहना है जितना स्टाफ हमारे पास है, उस हिसाब से दो पाली में ओपीडी चला रहे हैं।

X
Balod News - chhattisgarh news now action will be taken on the doctors who have done double opd duty report sent
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना