इकलौते तालाब के दूषित पानी में नहाने की मजबूरी, नलों में भी आ रहा गंदा पानी

Balod News - बालोद| वार्ड क्रमांक 2 जिसे संजय नगर से जाना जाता है। नगर पालिका भवन के ठीक पीछे स्थित इस वार्ड में गंदे पानी की...

Nov 11, 2019, 06:35 AM IST
बालोद| वार्ड क्रमांक 2 जिसे संजय नगर से जाना जाता है। नगर पालिका भवन के ठीक पीछे स्थित इस वार्ड में गंदे पानी की समस्या है। चाहे वह पानी नहाने का हो गया फिर पीने का। वार्ड में कुछ जगहों पर गंदगी लोगों की लापरवाही के कारण भी फैली रहती है। तो वहीं कचरा उठाने वाले भी ध्यान नहीं देते। तालाब में गंदगी व जाम नाली की समस्या यहां दूर होने का नाम नहीं ले रही है। यहां के पार्षद का कहना है कि उनके कार्यकाल में विकास कार्यों के लिए डेढ़ करोड़ खर्च कर चुके हैं। लेकिन तालाब के संरक्षण के लिए उनके पास फंड तक नहीं है।

वार्ड की तस्वीर

3900

वार्ड की आबादी

1180

मतदाता

410

मकान

वार्ड के लोगों की जुबानी वो बातें जो कोई अफसर सुनता नहीं

घर के सामने ही नालियां जाम, फैल रही बदबू

फूलबाई ने कहा कि वार्ड में नपा के सफाईकर्मचारी व महिला समूह वाले कचरा उठाने आते हैं। लेकिन व्यवस्था ठीक नहीं है। घर के सामने नालियों की कई महीने से सफाई नहीं हुई। लोग दुर्गंध से परेशान हैं। तालाब किनारे भी सीमेंट का डस्टबिन बना जरूर है। लेकिन वहीं ज्यादा गंदगी नजर आती है।

सर्वे : आइए लोगों से जानें व्यवस्था से कितने संतुष्ट हैं-

1. क्या आपके मोहल्ले में समय से पीने का पानी आता है?

25%

लोगों ने कहा- नहीं

बातें जो वार्ड के लोग चाहते हैं

  छवि सार्वा, पार्षद


- पारिवारिक कारणों से मुझे दूसरे वार्ड में रहना पड़ता है। लेकिन अपने वार्ड की समस्याओं को लेकर गंभीर हूं। मुख्य निकासी नाली की सफाई होती है। बाकी नालियों पर किसी ने मकान तो किसी ने बाथरूम बना दिया है।


- एक ही तालाब है इसलिए उसे पूरा सूखा नहीं सकते। गर्मी में जब किनारे सूखते हैं तो सफाई कराते हैं। कुछ घरों की नाली का पानी भी आकर भरता है।


- जब तक वाटर फिल्टर प्लांट शुरू नहीं हो जाता, यह समस्या बनी रहेगी। वैसे योजना का काम पिछले कार्यकाल का है। हमने दबाव बनाकर काम में तेजी लाई है। फिलहाल इस पर मैं ज्यादा कुछ नहीं कर सकती।


अगला वार्ड: महामाया नयापारा, वार्ड-3

वार्ड-2 : संजय नगर

75%

दशेला तालाब में जा रहा घरों का गंदा पानी

पंचबाई ने कहा दशेला तालाब किनारे के घरों का गंदा पानी नाली के जरिए तालाब में जाकर भरता है। तालाब की सफाई भी नहीं होती। जबकि एकमात्र निस्तारी का साधन है। नाली का पानी भरने से नहाते समय बदबू से परेशान होते हैं। पार्षद व नपा ध्यान नहीं देती, पहले भी इसकी शिकायत हो चुकी।

लोगों ने कहा- हां


नगर पालिका को पीने के लिए साफ व पर्याप्त पानी का उचित इंतजाम करना चाहिए।

नालियों पर कब्जा, किसी ने मकान तो किसी ने टॉयलेट बना दिया इसलिए सफाई में दिक्कत

वह काम जो रह गए अधूरे

2. क्या रोजाना सफाई कर्मी आपके घर के सामने झाड़ू लगाते हंै?

ये हैं चुनौतियां

04

सफाईकर्मी

01

कचरा गाड़ी

01

पानी टंकी

अभी से गिरा जल स्तर नलों की धार हुई पतली

खेमुराम ने कहा वार्ड के आधे इलाके में नलों से गंदा पानी अा रहा है। वाटर लेवल डाउन होने के कारण नलों में पानी कम आता है। इससे स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है। कई बार बीमार पड़ते हैं। पानी उबाल कर पीना पड़ता है। गर्मी में मंदिर के पास अस्थायी टंकी को चालू किया जाता है, जो नाकाफी है।

68%

लोगों ने

कहा- नहीं

32%

लोगों ने कहा- हां

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना